Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

चेन्नई सेंट्रल से 211 यात्रियों को लेकर Pathankot पहुंचीं ट्रेन, घर वापसी पर भावुक हुए लोग

चेन्नई सेंट्रल से 211 यात्रियों को लेकर Pathankot पहुंचीं ट्रेन, घर वापसी पर भावुक हुए लोग

- Advertisement -

नूरपुर। कोरोना लॉकडाउन के चलते बाहरी राज्यों फंसे लोगों की हिमाचल वापसी जारी है। चेन्नई सेंट्रल से एक और ट्रेन सोमवार दोपहर 2.15 बजे चक्की बैंक स्टेशन पठानकोट (Pathankot) पहुंची। यह गाड़ी 23 मई को चेन्नई सेंट्रल से उधमपुर के लिए शाम 5 बजे चली थी, जिसमें प्रदेश के 9 जिलों के 211 यात्री पहुंचे। पठानकोट पहुंचने पर एसडीएम (SDM) डॉ. सुरेंद्र ठाकुर तथा नायब तहसीलदार देशराज ठाकुर ने प्रशासन की तरफ से उनका स्वागत किया। गौतलब है कि प्रदेश सरकार के प्रयासों से अब तक देश के अन्य राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) के कारण फंसे 868 हिमाचलियों की एक सप्ताह के भीतर पांच ट्रेनों के द्वारा पठानकोट स्टेशन पर वापसी हुई है।

यह भी पढ़ें: ब्रेकिंग: हिमाचल के दो जिलों में Covid-19 कर्फ्यू 30 जून तक बढ़ाया गया

एचआरटीसी की 11 बसों में गंतव्यों के लिए रवाना किए

एसडीएम सुरेंद्र ठाकुर ने बताया कि इस ट्रेन से चंबा ज़िला के 94, कांगड़ा के 54, मंडी के 26, हमीरपुर (Hamirpur) के 12, शिमला (Shimla) के 10, कुल्लू (Kullu) के 7, बिलासपुर के पांच, किन्नौर के 2 तथा ऊना (Una) का एक यात्री पहुंचा, जिन्हें एचआरटीसी की 11 बसों द्वारा उनके गंतव्यों के लिए रवाना किया गया। उन्होंने बताया कि कांगड़ा ज़िला के यात्रियों को प्रशासन द्वारा शाहपुर में बनाए गए संस्थागत क्वारंटाइन (Institutional Quarantine) में भेजा गया है, जबकि अन्य जिलों के यात्रियों को उनके जिलों में बनाए गए संस्थागत क्वारंटान केंद्रों में रखा जाएगा, जहां पर प्रशासन द्वारा इनके ठहरने व खान-पान की विशेष व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया की इन सब यात्रियों के वहां पर कोविड-19 (Covid-19) के सैंपल लिए जाएंगे। सैंपल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें अपने -अपने घरों में भेज दिया जाएगा। जहां पर उन्हें होम क्वारंटाइन में रह कर नियमों का पूरा पालन करना होगा।

यह भी पढ़ें: Solan: मंदिर में चोरी का प्रयास, त्रिशूल से दानपात्र तोड़ते दो नाबालिग धरे

एमबीबीएस की डिग्री पूरी कर लौटी गोलवां की दीपिका

कांगड़ा ज़िला के फतेहपुर उपमंडल की गोलवां की दीपिका पठानिया जो चेन्नई में एमबीबीएस (MBBS) की डिग्री पूरी करने के पश्चात लॉकडाउन के कारण पिछले दो माह से घर आने का इंतजार कर रहीं थी परंतु प्रदेश सरकार के प्रयासों से वह आज अपनी जन्मभूमि में पहुंच कर बहुत भावुक हुई। डॉक्टर होने के नाते उन्होंने लोगों से कोरोना से ना घबरा कर इससे सावधान व सतर्क रहने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखने की अपील की।कांगड़ा जिला के देहरा उपमंडल के हरिपुर की शिल्पा जो चेन्नई में पढ़ाई पूरी करने के घर आने का इंतजार कर रहीं थी। उन्होंने बताया कि उन्हें कभी नहीं लगता था कि लॉकडाउन के बीच वे अपने घर वापस पहुंच पाएगी। हिमाचल प्रदेश सरकार के प्रयासों से उनका घर पहुंचने का सपना पूरा हुआ है।

यह भी पढ़ें: बिजली के पोल पर हुआ धमाका, काम कर रहे Technician के कपड़ों में लगी आग- गंभीर घायल

इसी ट्रेन में शिमला जिला के रामपुर के रितिक जो चेन्नई में ही जॉब ट्रेनिंग करने के लिए गए थे, परंतु लॉकडाउन के कारण पिछले दो माह से कमरे के अंदर ही बंद हो कर घर आने की राह देख रहे थे। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार के प्रयासों से वह अपने परिजनों से मिल पाएंगे। रामपुर के विद्युत प्रोजेक्ट में चीफ मैनेजर के पद पर कार्यरत जम्बोकेश्वरम जो अपनी बीमार मां को देखने अपने पैतृक शहर कन्याकुमारी गए थे, वह भी अपने नियुक्ति स्थान पर नहीं पहुंच पा रहे थे। उन्होंने बताया कि सरकार के प्रयासों से वह अपनी ड्यूटी पर पहुंच सकेंगे। चंबा जिला के तीसा के शेर सिंह, विनोद व राजेश आदि ने बताया कि वे सभी चेन्नई में माल ढुलाई का काम करते थे, लेकिन कामधंधा मंदा होने के कारण वे अपने घरों में आना चाहते थे, लेकिन घर आना मुश्किल लग रहा था।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है