Expand

बाली ने छेड़े ओबीसी प्रेम के तराने

बाली ने छेड़े ओबीसी प्रेम के तराने

- Advertisement -

धर्मशाला। परिवहन मंत्री जीएस बाली ओबीसी वर्ग के वोट की अहमियत जानते हैं, इसलिए ओबीसी बहुल क्षेत्रों में उनके ओबीसी प्रेम के सुर छिड़ ही जाते हैं। रविवार देर शाम को भी शाहपुर विधानसभा क्षेत्र में एक कार्यक्रम में बाली ने ओबीसी प्रेम के कई सुर एक साथ छेड़े। मौका था ग्राम पंचायत बंडी, नागनपट्ट और कल्याड़ा द्वारा करवाए जाने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम का जिसमें बाली बतौर मुख्यातिथि शामिल हुए थे।

  • gafoor2इस दौरान बाली ने कहा, कि उनका निजी तौर पर कोई दुश्मन नहीं है लेकिन जो ओबीसी, गरीब और कांगड़ा का दुश्मन है वही असल में उनका दुश्मन है।
  • ओबीसी ने मुझे बहुत कुछ दिया है और मेरा भी लगातार प्रयास है कि मैं भी इस वर्ग विशेष के लिए कुछ न कुछ जरूर करूं।
  • बाली ने कहा, कि उन्होंने कभी गरीबों की भलाई के लिए किए कार्यों का बखान नहीं किया, लेकिन अब लोगों ने उन्हें यह सब करने पर मजबूर कर दिया है। लोग पूछते हैं कि बाली ने आखिर किया क्या ? इसलिए वह बता देते हैं कि वह गरीब और ओबीसी वर्ग के लिए क्या-क्या काम करते आ रहे हैं।
  • इस दौरान बाली ने नगरोटा वेलफेयर सोसाइटी और अपने परिवार द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्यों का बखान भी किया।

ओबीसी की पगड़ी से प्यार

आयोजकों ने बाली का स्वागत गुलाबी पगड़ी पहनाकर किया। जब बाली मंच पर आए तो उन्होंने अपना भाषण पगड़ी से ही शुरू किया। बाली ने कहा कि उन्हें विभिन्न कार्यक्रमों में पगड़ी पहनाई जाती है। यह गुलाबी पगड़ी ओबीसी की पहचान है और ओबीसी के लिए ख़ास है। इसलिए जब भी ऐसी पगड़ी पहनने का मौका मिलता है, वह इस पगड़ी को नहीं उतारते हैं। क्योंकि उन्हें ओबीसी और उनकी पगड़ी से प्यार है। ओबीसी के प्रेम से ओतप्रोत बाली ने पूरे कार्यक्रम के दौरान वह पगड़ी पहने ही रखी। बाली ने कहा कि आयोजकों ने जब उनसे आने का आग्रह किया तो उनके पास समय नहीं था, लेकिन ओबीसी और महिलाओं के कार्यक्रम के लिए वह कभी मना नहीं करते। इसलिए अति व्यस्त होने के बावजूद भी वह इस कार्यक्रम में शामिल हुए।

gafoorसीएम से सबसे बेहतर हैं संबंध

बाली ने कहा कि विरोधी यह अफवाह फैलाते हैं कि मेरी सीएम वीरभद्र सिंह से नहीं बनती। लेकिन हकीकत यह है कि सीएम से मेरे संबंध सबसे बेहतर हैं। कोई भी बड़ा काम हो, उसकी जिम्मेदारी सीएम हमेशा मुझे ही सौंपते आए हैं। यह तभी होता है क्योंकि उनको मुझ पर विशवास है और हमारे संबंध बेहतर हैं। बाली ने कहा, कि पिछले वर्ष सीएम ने इसी मंच पर जो घोषणाएं की थीं वह उन्हें पूरा करवाने का प्रयास करेंगे। आयोजकों द्वारा 17 सोलर लाइटों की मांग पर बाली ने कहा कि इतनी लाइटें एक साथ तो सीएम भी स्वीकृत नहीं करते, पर ओबीसी क्षेत्र के लोगों की मांग है तो वह इसके लिए मना नहीं कर सकते। उन्होंने आयोजकों को अपने परिवार की तरफ से हर वर्ष 21 हजार रुपए देने का भी वादा किया। इसके अलावा ओबीसी भवन के लिए 5 लाख, इस बार के कार्यक्रम के लिए 51 हजार और स्टेज बनाने के लिए एक लाख रुपए देने की भी घोषणा की।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है