Covid-19 Update

1,61,072
मामले (हिमाचल)
1,24,434
मरीज ठीक हुए
2348
मौत
24,965,463
मामले (भारत)
163,750,604
मामले (दुनिया)
×

सर्दियों में लाल चींटी की चटनी खाते हैं यहां के लोग, जानें क्या है इसके पीछे वजह

स्वास्थ्य के लिए लाभदायक मानी जाती है लाल चींटी की चटनी

सर्दियों में लाल चींटी की चटनी खाते हैं यहां के लोग, जानें क्या है इसके पीछे वजह

- Advertisement -

जमशेदपुर। झारखंड के जमशेदपुर से करीब 70 किलोमीटर दूर चाकुलिया प्रखंड का मटकुरवा गांव पड़ता है। इस गांव में अधिकतर लोग आदिवासी(Tribal) समाज से संबंध रखते हैं. घने जंगलों के बीच बसा ये गांव मूलभूत सुविधाओं (Basic facilities) और आधुनिकता से काफी दूर है। जाहिर है कि लोगों का जीवन यापन भी काफी अलग होगा। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि जिस लाल चींटी (Red ant) को देखते ही हमारे शरीर में कंपन होना शुरू हो जाता है, इस गांव के लोग उस चींटी की चटनी खाने के शौकीन हैं।



आदिवासी समाज के लोगों की मान्यता है कि ठंड के दिनों में अगर इस चींटी की चटनी खाई जाए तो ठंड भी नहीं लगेगी और भूख भी अच्छे से लगेगी। इस चींटी में टेटरिक एसिड(Tetric acid) होता है जो शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है। आदिवासी लोगों के अनुसार ठंड पड़ते ही यहां के साल और करंज के पेड़ों पर लाल चींटी अपना घर बना लेती है। इनका घर चारों तरफ पत्तों से ढका होता है। चींटियों के घर पेड़ पर काफी ऊंचाई पर बनता है। जब चींटी पेड़ पर आना-जाना शुरू करती है, तो गांव के युवा पेड़ पर चढ़कर इनके घर को टहनी के साथ तोड़ कर लाते हैं, फिर इसको एक बड़ी से हांडी में झाड़ते हैं ताकि सभी चींटियों को एक जगह किया जा सके। इसके बाद घर की महिलाएं उसे पत्थर की बड़ी सी सि‍ल पर रखती हैं और उसमें नमक, मिर्च, अदरक, लहसुन मिलकर काफी बारीक पिस लेती हैं। करीब 30 मिनट पीसने के बाद सारी लाल चींटी मिक्स हो जाती हैं, फिर सभी लोग अपने-अपने घरों से साल का पत्‍ता लाकर उसमें चटनी रखते हैं और बांटकर खाते हैं.

चटनी को एक साल के बच्चे से लेकर 50 साल तक की उम्र के लोग खाते हैं। आदिवासियों के अनुसार ये चींटी साल में एक बार ही पेड़ पर आती है। इस चटनी को काफी सालों से खाया जाता है। आदिवासियों का कहना है कि वो खुद को स्‍वस्‍थ रखने के लिए लाल चींटी की चटनी खाते हैं। स्थानीय लोग इस कुरकु(kurku) भी कहते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है