Covid-19 Update

59,032
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
116,748,718
मामले (भारत)
11,192,088
मामले (दुनिया)

ट्रिब्यूनल का आदेश, नहीं होगी जेबीटी अध्यापकों से रिकवरी

ट्रिब्यूनल का आदेश, नहीं होगी जेबीटी अध्यापकों से रिकवरी

- Advertisement -

मंडी। प्रदेश के दस जेबीटी अध्यापकों को हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक ट्रिब्यूनल ने बड़ी राहत दी है। ट्रिब्यूनल ने इन अध्यापकों से शिक्षा विभाग द्वारा वसूली करने संबंधी आदेशों को निरस्त करने के साथ पांच अध्यापकों से की गई वसूली के पैसों को तीन महीनों के भीतर वापस करने का आदेश दिया है।
प्रशासनिक ट्रिब्यूनल ने यह आदेश अपनी मंडी सर्किट के दौरान दिए। अधिवक्ता एसपी चटर्जी के माध्यम से हमीरपुर जिला के भोरंज खंड के 10 जेबीटी अध्यापकों बलदेव चंद, हरबंस लाल, नरोतम लाल, सोम लता, श्री राम, कमलेश कुमार शर्मा, कुलदीप चंद, सुरेश कुमार, क्षत्र वीर सिंह और जगदीश चंद ने ट्रिब्यूनल कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में शिक्षा विभाग द्वारा इनसे की जा रही रिकवरी को अनुचित ठहराते हुए न्याय की गुहार लगाई गई।
उक्त अध्यापकों को वर्ष 2011 में पे-फिकसेशन के तहत 36 महीनों का एरियर मिलना था, लेकिन शिक्षा विभाग ने गलती से 72 महीनों का एरियर अदा कर दिया। लंबे समय तक शिक्षा विभाग ने इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की और 8 वर्ष बीतने के बाद रिकवरी की याद आई। ऐसे में कुछ अध्यापक रिटायर हो चुके हैं और कुछ रिटायर होने वाले हैं। कुछ से विभाग ने रिकवरी कर भी दी। इतने लंबे समय बाद की गई रिकवरी से खफा यह अध्यापक जुलाई 2018 में ट्रिब्यूनल कोर्ट की शरण में चले गए। ट्रिब्यूनल के सदस्य (न्यायिक) डीके शर्मा ने मंडी सर्किट बेंच के दौरान इनकी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए शिक्षा विभाग द्वारा उनसे वसूली करने के आदेशों को निरस्त कर दिया।
इसके अलावा ट्रिब्यूनल ने याचिकाकर्ता बलदेव चंद, हरबंस लाल, नरोतम लाल, सोम लता, श्री राम से वसूली कर ली गई राशि भी तीन महीनों के भीतर लौटाने के आदेश दिए हैं। ट्रिब्यूनल ने अपने फैसले में कहा कि रिकवरी करने का प्रावधान 5 वर्षों के भीतर होना चाहिए था और इस संबंध में विभाग द्वारा याचिकाकर्ताओं की सुनवाई किए बगैर आदेश जारी किए गए हैं। इसके अलावा उच्चतम न्यायलय ने पंजाब सरकार बनाम रफीक मसीह मामले में व्यवस्था दी है कि क्लास 3 और 4 के अधिकारियों से अधिक जारी की गई राशि वसूल नहीं की जा सकती, जिसके चलते ट्रिब्यूनल ने उक्त याचिकाकर्ताओं से वसूली करने के विभागीय आदेशों को निरस्त करने का फैसला सुनाया है। जबकि विभाग द्वारा वसूल कर ली गई राशि को भी तीन माह के भीतर लौटाने के आदेश दिए हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है