Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,855,783
मामले (भारत)
201,702,198
मामले (दुनिया)
×

संघर्ष में शहीद कर्मचारियों को दी श्रद्धांजलि, जयराम सरकार पर साधा निशाना

संघर्ष में शहीद कर्मचारियों को दी श्रद्धांजलि, जयराम सरकार पर साधा निशाना

- Advertisement -

सुंदरनगर। मंडी जिला के सुंदरनगर में 10 अक्टूबर 1980 को संघर्ष के दौरान शहीद हुए कर्मचारियों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह चौक में बने शहीदी स्मारक पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम में एनजीओ के प्रदेशाध्यक्ष एनआर ठाकुर और स्टेट इलेक्ट्रीसिटी बोर्ड इंप्लाइज यूनियन प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह खरवाड़ा की अध्यक्षता में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें सैकड़ों की तादाद में कर्मचारियों ने भाग लिया।

यह भी पढ़ें: आतंकी अलर्टः हिमाचल और पंजाब पुलिस ने छानी डमटाल की पहाड़ियां


कार्यक्रम में कर्मचारियों की मांगों के संघर्ष के दौरान शहीद हुए कर्मचारियों को श्रद्धा सुमन अर्पित की गई। दो धड़ों में बंटी बिजली बोर्ड की यूनियनों ने अलग-अलग जगह पर कार्यक्रम आयोजित किए। वहीं, दूसरी ओर जवाहर पार्क सुंदरनगर में भी राज्य विद्युत तकनीकी कर्मचारी संघ भारतीय मजदूर संघ ने शहीद हुए कर्मचारियों को श्रद्धांजलि दी। वहां पर यह कार्यक्रम संघ के प्रदेश अध्यक्ष दुनी चंद ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित किया गया।


इस मौके पर अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के (एनजीओ) स्टेट प्रेसिडेंट एनआर ठाकुर का कहना है कि बीजेपी सरकार के सत्तासीन हुए 2 साल का कार्यकाल होने जा रहा है, लेकिन अभी तक कर्मचारियों की चिरलंबित पड़ी मांगों को सुलझाने के लिए एक भी जेसीसी की बैठक जयराम सरकार द्वारा अभी तक नहीं बुलाई गई है। जोकि प्रदेश के ढाई लाख कर्मचारियों के साथ और उनके भावनाओं के साथ सरेआम खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकाल में भी 5 साल में मात्र एक ही जेसीसी की बैठक बुलाई गई और वह भी बेनतीजा रही। जबकि नियमों के तहत हर 6 महीने में एक बैठक बुलाई जाने अनिवार्य है, लेकिन ऐसा ना तो कांग्रेसी राज में हुआ है और ना ही बीजेपी राज में जयराम सरकार जीसीसी कर्मचारियों की बैठक बुलाने में दिलचस्पी लेती नजर आई है। एनआर ठाकुर ने दो टूक शब्दों में चेताया है कि कांग्रेस सरकार ने भी 5 साल में मात्र कर्मचारियों को छला ही है और कोई दूसरा काम नहीं किया है। मांगों को मनवाने के लिए आंदोलन का रूख अख्तियार करना पड़ेगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है