Covid-19 Update

2,01,054
मामले (हिमाचल)
1,95,598
मरीज ठीक हुए
3,446
मौत
30,082,778
मामले (भारत)
180,423,381
मामले (दुनिया)
×

धन नहीं टिकता तो करें ये उपाय, घर में होगा लक्ष्मी का वास

धन नहीं टिकता तो करें ये उपाय, घर में होगा लक्ष्मी का वास

- Advertisement -

हर मनुष्य की चाहत होती है कि उसे अचानक अपार धन की प्राप्ति हो, लेकिन यह धन आपको सिर्फ चाहने भर से नहीं मिल सकता। इसके लिए आपको मां लक्ष्मी (Goddess laxmi) को प्रसन्न करना बहुत जरूरी है। यदि आप चाहते हैं कि लक्ष्मी का वास अपके घर पर हो तो आप को अपने जीवन में कुछ करना होगा और कुछ नियमों पर चलना होगा या यूं कह लें कि जीवन में ध्यान रखना होगा कुछ आवश्यक बातों (Necessary things) का। जानते हैं कुछ बातें जिन के करने से लक्ष्मी का वास आप के घर में होगा …

ये भी पढ़ें : जानिए राशि के अनुसार किस रंग का वाहन आपके लिए रहेगा शुभ

  • घर में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। यह जान लें कि घर में अस्त-व्यस्त रखीं वस्तुएं भी नकारात्मक ऊर्जा (negative energy) उत्पन्न करती हैं। वस्तुओं का बिखराव वह भी पूर्व, उत्तर या पूर्व-उत्तर दिशा में हो तो समझ लें कि धन नहीं टिकेगा। धन की जगहों में बिखराव से भी लक्ष्मी नहीं टिकती है या यूं कह लें कि धन का आवागमन कम हो जाता है।
  • बैंक की पास बुक, चैक बुक या धन रखने का कैश बॉक्स (Cash box) भी इन्हीं दिशाओं में रखना चाहिए। यदि आप ऐसा करेंगे तो निश्चित रूप से आप धन का आवागमन अधिक कर सकेंगे और लक्ष्मी टिकेगी भी।
  • धन को उचित स्थान पर धनकारक दिशाओं में रखना चाहिए। धन को करीने से रखना चाहिए नाकि मसलकर, मोड़-तोड़ कर यूं ही नहीं फेंक देना चाहिए। ऐसा करने से भी लक्ष्मी पास में नहीं रुकती है। उसकी गति धीमी पड़ जाती है।


  • कबाड़ (raggery) घर में एकत्र न करें क्योंकि उससे भी धन का आवागमन रुक जाता है। बहुत बार तो धन का आना ही रुक जाता है और सारा धन बाहर ही रहता है या धन आने से पहले जाने का मार्ग बना लेता है। घर में सुख समृद्धि का वास भी होता है। यह जान लें कि धनकारक दिशाएं पूर्व, उत्तर या पूर्व-उत्तर है। दिशाएं इस प्रकार हैं- पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, पूर्व-उत्तर, उत्तर-पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, दक्षिण-पूर्व, आकाश और पाताल।
  • अब ध्यान रखने की बात यह है कि पूर्व, उत्तर, पूर्व-उत्तर दिशा नीची, खुली व हल्की होनी चाहिएं। इसके अतिरिक्त अन्य दिशाओं की अपेक्षा ये दिशाएं आकाश मार्ग से भी खुली होनी चाहिए।
  • इसके विपरीत दक्षिण, पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पश्चिम दिशाएं ऊंची, भारी व आकाश मार्ग से बन्द होनी चाहिए।
  • दक्षिण, दक्षिण-पूर्व अग्नि का स्थान है। इसमें अग्नि की स्थापना होनी चाहिए।
  • पूर्व, उत्तर दिशा जल का स्थान होने के कारण इस दिशा में जल की स्थापना होनी चाहिए।
  • किचन में झूठे बरतन हों तो भी ऐसा ही होता है। रात्रि में किचन में जूठे बर्तन नहीं होने चाहिएं। यदि शेष रहते हैं तो एक टोकरे में भरकर किचन से बाहर आग्नेय कोण में रखने चाहिए।
  • किचन दक्षिण या दक्षिण पूर्व में बनानी चाहिए। किचन में सिंक या हाथ  धोने का स्थान ईशान कोण में होना चाहिए।

  • सीढ़ियां एवं टॉयलेट तो कदापि पूर्व या उत्तर या पूर्व-उत्तर में न बनाएं।
  • देवता के लिए पूर्व-उत्तर दिशा सर्वोत्तम है, उत्तर एवं पूर्व भी शुभ होती है। ईशान में भवन का देवता वास करता है, इसलिए इस स्थान पर पूजा या देवस्थल अवश्य बनाना चाहिए। इसे खुला और हल्का बनाना चाहिए।
  • इसमें स्टोर या वजन रखने का स्थान कदापि नहीं बनाना चाहिए। इस स्थान को साफ रखना चाहिए। इस स्थान को प्रतिदिन साफ रखने से जीवन उन्नतिशील एवं सुख-समृद्धि से परिपूर्ण होता है।
  • पीने योग्य जल (Potable water) का भंडारण भी ईशान कोण में होना चाहिए। यह ध्यान रखें कि कभी भी आग्नेय कोण में जल का भंडारण न करें। गैस के स्लैब पर पानी का भंडारण तो कदापि न करें, वरना गृहक्लेश अधिक होगा। पारिवारिक सदस्यों में वैचारिक मतभेद होने लगेंगे। गृहक्लेश अधिक होता है तो किचन में चैक करें अवश्य जल और अग्नि एक साथ होंगे अथवा ईशान कोण में वजन अधिक होगा या वह अधिक गंदा रहता होगा। ऐसे में लक्ष्मी का वास होता ही नहीं है।
  • जब आप उक्त नियमों को अपनाएंगे और इनके अनुरूप करेंगे तो निश्चित रूप से धन-संपन्न बनेंगे। लक्ष्मी का आगमन भरपूर होगा। जब आप जान चुके होंगे कि लक्ष्मी को कैसे रोकना है तब आप यह कदापि नहीं कहेंगे कि लक्ष्मी रुकती ही नहीं है। लक्ष्मी का वास साज और सफाई में ही होता है।
पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहकार) 09669290067, 09039390067

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है