Covid-19 Update

58,607
मामले (हिमाचल)
57,331
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,096,731
मामले (भारत)
114,379,825
मामले (दुनिया)

दुखी मां की फरियादः गिरने से नहीं हुई बेटे की मौत, सिर पर डंडा मारकर किया कत्ल

दुखी मां की फरियादः गिरने से नहीं हुई बेटे की मौत, सिर पर डंडा मारकर किया कत्ल

- Advertisement -

रविंद्र चौधरी/रैहन। उपमंडल नूरपुर (Sub Division Nurpur) के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चरूड़ी के 11 वर्षीय छात्र (Student) की मौत (Death) मामले में नया मोड़ आ गया है। छात्र (Student) की मां ने बेटे की हत्या (Murder) का शक जाहिर किया है। कहा है कि केतन की मौत (Death) स्कूल में खेलने के दौरान गिरने से नहीं हुई है, बल्कि सिर पर डंडा मार कर हत्या (Murder) हुई है। छात्र (Student) केतन (11) की मां विधवा ईष्या देवी पत्नी स्वर्गीय जोगिंद्र सिंह गांव घटोट पोस्ट ऑफिस सुखार तहसील नूरपुर ने एक शिकायत पत्र सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai ram Thakur) , डीजीपी (DGP), एसपी (SP) कांगड़ा को भेजा है। कहा है कि मेरे बच्चे की मौत (Death) खेलते हुए गिरने से नहीं हुई है, बल्कि दूसरे छात्र (Student) द्वारा उसके सिर पर डंडा मारा गया है। गंगथ पुलिस (Police) पर मामले में भेदभाव करके केस को दबाने का षड्यंत्र रचने का भी आरोप जड़ा है। साथ ही स्कूल प्रबंधन को भी कटघरे में खड़ा किया है।

यह भी पढ़ें: सिरमौर से लाए थे पेशी के लिए, मैहतपुर में पुलिस को दिया चकमा

शिकायत पत्र के मुताबिक 15 मई को केतन (11) और उसकी दो बहनें काजल और शिल्पा देवी सुबह 8: 30 बजे राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चरूड़ी गए। वहां कुछ बच्चे के साथ पकड़म पकड़ाई खेल रहे थे। खेल-खेल में केतन दसवीं कक्षा के एक छात्र से आगे निकल गया तो गुस्से में आकर उसने कहा कि तू क्यों आगे आ रहा है। इसी बात पर गुस्से में आकर उसने बांस का डंडा केतन के सिर पर जोर से मार दिया। केतन मुंह के बल नीचे गिर गया। फिर उसके सिर, नाक और मुंह से खून निकलने लगा तथा कुछ ही देर के बाद खून की उल्टी आना शुरू हो गई। बच्चों ने उसे उठाकर पुली के ऊपर रख दिया और कुछ देर के बाद स्कूल का चपरासी वहां आया और उसे उठाकर ऑफिस (Office) के अंदर ले गया। कुछ देर बाद स्कूल अध्यापक (Teacher) स्कूल (School) पहुंचे फिर उन्होंने दरवाजा बंद करके बच्चों को बाहर निकाल दिया। केतन की बहन काजल ने उसे देखा वह तड़प रहा था और उसके मुंह, नाक सिर से खून निकल रहा था। उसके बाद काजल को भी कमरे से बाहर निकाल दिया। एक मैडम ने एक छात्रा को बुलाया और उसके घर से कमीज मंगवाई और केतन की पहले वाली कमीज खुलवा दी। मैडम ने काजल (केतन की बहन) को गुस्से से बुलाया और डराते हुए कहा जो कमीज खून से लथपथ है, उसे साफ करो। बाद में घायल केतन को गाड़ी में बिठा कर नूरपुर (Nurpur) अस्पताल (Hospital) ले गए।

यह भी पढ़ें: निरमंड की टिकरी कैंची के निकट कार लुढ़की, चालक की मौत


 

जब केतन को अस्पताल (Hospital) लेकर गए तो घर वालों को सूचित नहीं किया गया, जबकि केतन के घर के पीछे से गाड़ी को लेकर गए। थोड़ी देर बाद फोन कर के कहा कि आपके लड़के को चक्कर आया और नीचे गिर गया तो आप जल्दी से हॉस्पिटल (Hospital) आ जाओ। जब वह नूरपुर हॉस्पिटल (Hospital) में पहुंची तो उनसे भी एक अध्यापक ने बड़े गुस्से में बात की और कहा हम तेरे बच्चे को सुबह से लेकर घूम रहे हैं। तू इसे संभाल और इलाज के लिए 1100 रुपए दे। मेरे पास पैसे नहीं थे। मैंने कहा कि आप दे दो, मैं आपको बाद में दे दूंगी। इसके बाद अध्यापक (Teacher) चला गया। फिर थोड़ी ही देर के बाद केतन की मौत हो गई। अध्यापकों द्वारा पुलिस (Police) को गलत सूचना दी गई। स्कूल के सारे स्टाफ ने बच्चों को धमकाया है कि आपने जो भी देखा उसे मत बताना। मेरी बेटियों को भी यह ही कहा कि तुम कुछ भी मत बताना, नहीं तो तुम्हें स्कूल से निकाल देंगे। बेटे की मौत (Death) से दुखी गरीब विधवा ईष्या ने सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai ram Thakur) से इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है, ताकि उसे न्याय मिल सके ।
स्कूल की प्रधानाचार्य पूनम शर्मा ने बताया कि हादसे वाले दिन वह छुट्टी पर थीं, लेकिन स्कूल स्टाफ ने सूचना दी थी कि स्कूल में बच्चे सुबह के समय में खेल रहे थे और खेलते खेलते छात्र (Student) अचानक गिर गया और गिरने की वजह से उसके सिर पर गहरी चोट लग गई, जिस वजह से उसकी मौत (Death) हुई है।

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है