Covid-19 Update

2,05,061
मामले (हिमाचल)
2,00,704
मरीज ठीक हुए
3,498
मौत
31,396,300
मामले (भारत)
194,663,924
मामले (दुनिया)
×

दो दिव्यांग भाई जी रहे नरक सा जीवन, न नेता न प्रशासन कोई नहीं ले रहा सुध

दो दिव्यांग भाई जी रहे नरक सा जीवन, न नेता न प्रशासन कोई नहीं ले रहा सुध

- Advertisement -

नाहन। जरा इन दो भाइयों से पूछिये दिव्यांगता क्या होती है। खाने को हाथ नहीं है। चलने को पैर नहीं। ठीक से अपनी बात भी नहीं कह सकते। इनकी दास्तां पढ़कर कर आपकी आंखें भी नम हो जाएंगी, लेकिन सरकार, प्रशासन, नेताओं से बार-बार गुहार लगाने के बावजूद इनकी मदद के लिए हाथ नहीं बढ़े। मामला सिरमौर जिला के गिरीपार क्षेत्र की कोडगा पंचायत के खनलोग गांव से जुड़ा है। यहां क्रमशः 31 व 27 साल के 2 सगे भाई सोनू व संदीप अनदेखी की मार झेल रहे हैं। प्रशासन को क‌ई बार इनकी हालत से अवगत करवाया गया है। मगर इनके लिए कोई भी उचित कदम नहीं उठाया जा रहा है।
दोनों युवा बचपन से ही न तो सही ढंग से बोल सकते हैं, न ही चल सकते हैं न ही कुछ काम कर सकते हैं। इनका जन्म से ही यह हाल है। माता-पिता को अब इस बात की चिंता सता रही है कि वो अब बुजुर्ग हो चुके हैं। ऐसे में जब वह गुजर जाएंगे तो उनके बाद इन बच्चों को कौन देखेगा। इस बारे में कई बार प्रशासन से भी गुहार लगा चुके हैं कि इन बच्चों के रहने व खाने की उचित व्यवस्था की जाए। दूसरी तरफ सरकार कुपोषण के लिए लाखों रुपए की स्कीमें चला रही है। मगर जो पहले ही कुपोषण की वजह से पीड़ित हैं, उनको नहीं देख रही है। वहीं, इस बारे में गांव के लोगों का भी कहना है कि जयराम सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए। जल्द इन दोनों भाइयों के रहने के लिए उचित व्यवस्था का इंतजाम किया जाए। साथ ही परिवार बेहद गरीब है।

हर्षवर्धन चौहान व बलदेव तोमर को भी बताई दास्तां

गांव के लोग कई बार विधायक हर्षवर्धन चौहान व पूर्व विधायक बलदेव तोमर को भी इस बारे अवगत करा चुके हैं, परंतु अभी तक उन्हें कोई भी उचित कार्रवाई नहीं की। अब इतना परेशान होकर इन दोनों युवाओं के मां-बाप ने बच्चों को अपने साथ ही मार डालने की बात तक कह डाली है। उनका कहना है कि अगर हम मर जाए तो उन बच्चों को भी हमारे साथ ही मार डालना, क्योंकि हमारे बाद उनके बच्चों को कौन देखेगा। युवा संदीप और सोनू के पिता कलीराम का कहना है कि मेहनत मजदूरी करके अभी तो इनका पालन पोषण कर रहे हैं। पर हमारे गुजरने के बाद उनका पालन-पोषण कौन करेगा, यह चिंता हर रोज सताई जा रही है। सरकार से आग्रह है कि उनकी मदद की जाए। वहीं, आज भी मां अपने बच्चों के लिए आंसू बहा रही है। भगवान से प्रार्थना कर रही है की बच्चों की परेशानी का कोई अच्छा समाधान निकले।

फिर से उठाएंगे यह मामला

स्थानीय प्रधान रघुवीर का कहना है कि मां बाप ने कई बार प्रशासन के सामने इस समस्या को उठाने की कोशिश की। मगर कुछ नहीं बना। प्रधान ने बताया कि एक बार फिर इस मामले को जोर-शोर से उठाया जाएगा। शायद जयराम सरकार इन दोनों भाइयों की समस्या का समाधान कर सकें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है