×

18 कमरों का तीन मंजिला मकान राख, सात परिवार बेघर 

18 कमरों का तीन मंजिला मकान राख, सात परिवार बेघर 

- Advertisement -

गोहर। धरोटधार में 18 कमरों का तीन मंजिला मकान जल कर राख हो गया है। दो अन्य मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। पीड़ित परिवार को करीब 20 लाख रुपये से अधिक के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। बता दें कि देवदार की लकड़ी से बने स्लेटनुमा मकान में सात हिस्सेदारों के परिवार रहते थे। सभी परिवार बेघर हो गए हैं। जब मकान में आग लगी उस समय घर के लोग खेतों में काम कर रहे थे।
धुआं फैलते ही अफरा-तफरी मच गई। लोगों ने इकट्ठा होकर आग की लपटों को बुझाने का प्रयास किया। पर सफलता हाथ नहीं लगी। सूचना मिलते ही मंडी और सुंदरनगर से अग्निशमन की दो गाड़ियां मौके पर पहुंची। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। जिला परिषद सदस्य किशोर कुमार चौहान ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि तीन मंजिला मकान में मीनू राम,  मंगलू राम,  लालू,  तवारू राम, उत्तम, प्यारे लाल व छांगू राम के परिवार रहते थे । जिनमें मीनू राम के सात बेटे भी साथ रहते हैं। सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी घटना स्थल पर पंहुच गए । एसडीएम गोहर अनिल कुमार भारद्वाज ने जानकारी देते हुए बताया कि 6 हिस्सेदार पीड़ित परिवारों को फौरी राहत के तौर पर पांच-पांच हजार की राशि दी गई है ।

घ्राण में गौशाला राख, जिंदा जले दो बैल ,आग लगने के कारणों का खुलासा नहीं

मंडी। जिला के द्रंग विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले इलाका बदार की घ्राण पंचायत के घ्राण गांव में अचानक आग भड़कने से एक गौशाला जल कर राख हो गई। दुखद यह रहा कि इस गौशाला में दो बैल जिंदा जल गए। मिली जानकारी के अनुसार घ्राण गांव के भाग चंद पुत्र राम दास की गौशाला में अचानक आग भड़क उठी। उस समय गौशाला में दो बैल भी बंधे थे। घास लकड़ी अंदर होने के कारण आग इतनी जल्दी फैल गई कि गौशाला में बंधे बैलों को भी निकाला नहीं जा सका और वह जिंदा ही अंदर जल गए। इस आग की सूचना पर शुक्रवार को नायब तहसीलदार सदर लेख राम व घ्राण पटवार सर्कल के पटवारी चंदन कश्यप मौका पर पहुंचे तथा नुकसान का जायजा लेकर इसका आंकलन किया। भाग चंद को तुरंत राहत के रूप में 10 हजार रुपए की राशि दी गई तथा एक तिरपाल भी दिया गया, ताकि वह कोई अस्थायी इंतजाम कर सके।
भाग चंद ने बताया कि गौशाला में बैलों के साथ सारा घास, लकड़ी, कृषि औजार आदि सब जलकर स्वाहा हो गए। एक लाख से भी अधिक का नुकसान हुआ है। पुलिस व पशु विभाग की ओर से पशु चिकित्सक भी मौके पर गए। स्थानीय निवासियों ने प्रशासन व सरकार से आग्रह किया है कि वह प्रभावित परिवार को अधिक से अधिक मदद दें। आग किस कारण लगी इसका पता नहीं चल सका है।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है