Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

J&K: 6 महीने बाद रिहा किए गए सज्जाद लोन और वाहीद पारा, 13 लोगों की रिहाई शेष

J&K: 6 महीने बाद रिहा किए गए सज्जाद लोन और वाहीद पारा, 13 लोगों की रिहाई शेष

- Advertisement -

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में धारा 370 हटाए जाने के बाद नजरबंद किए गए पीपुल्स कांफ्रेंस के अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री सज्जाद गनी लोन और पीडीपी नेता वहीद उल रहमान परा को रिहा कर दिया गया है। बता दें, इन लोगों को 5 अगस्त को धारा 370 हटाए जाने के बाद से नजरबंद किया गया था। हालांकि अब तक नजरबंद किए गए नेताओं में तीन पूर्व सीएम सीएम डॉ. फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को फिलहाल राहत नहीं मिली है। अब विधायक हॉस्टल में एहतियातन हिरासत में 13 लोग शेष बचे हैं।

यह भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेले में दिख रही थीम राज्य हिमाचली संस्कृति की झलक

इससे पहले शनिवार को जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने (Jammu and Kashmir) नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) के अब्दुल मजीद लारमी, गुलाम नबी भट्ट, डॉ. मोहम्मद शफी और मोहम्मद यूसुफ भट्ट चार नेताओं को रिहा किया था। जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य होने के साथ-साथ प्रशासन नेताओं को रिहा कर रहा है। इससे पहले 17 जनवरी को भी जम्मू-कश्मीर प्रशासन (Jammu and Kashmir Administration) ने नेशनल कॉन्फ्रेंस के नाजिर गुरेजी, पीडीपी के अब्दुल हक खान, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के मोहम्मद अब्बास वानी और कांग्रेस के अब्दुल राशिद को रिहा किया था। ये सभी नेता 5 अगस्त, 2019 से अपने-अपने घरों में कैद थे। बता दें, जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के आज यानी 5 फरवरी को छह महीने पूरे ही चुके हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है