Covid-19 Update

2,63,113
मामले (हिमाचल)
2,45, 890
मरीज ठीक हुए
3936*
मौत
40,085,116
मामले (भारत)
359,251,319
मामले (दुनिया)

जम्मू-कश्मीर: 36 घंटे में तीसरा एनकाउंटर, लश्कर के 2 आतंकवादी ढेर

आतंकियों से आपत्तिजनक सामग्री और कई हथियार हुए बरामद

जम्मू-कश्मीर: 36 घंटे में तीसरा एनकाउंटर, लश्कर के 2 आतंकवादी ढेर

- Advertisement -

दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) के शोपियां जिले के चौगाम इलाके में शनिवार को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के दो आतंकवादी मारे गए। ये 36 घंटे में तीसरा एनकाउंटर है। पुलिस ने कहा कि शोपियां के चौगाम गांव के पास आतंकवादियों की मौजूदगी के संबंध में एक विशेष इनपुट पर कार्रवाई करते हुए, पुलिस, सेना की 44 राष्ट्रीय राइफल्स और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल द्वारा एक संयुक्त घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया गया था।

यह भी पढ़ें:लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट: मृतक ही था हमलावर, RDX से किया गया था धमाका

पुलिस के अनुसार, तलाशी अभियान के दौरान, जैसे ही आतंकवादियों (Terrorists) की मौजूदगी का पता चला, उन्हें आत्मसमर्पण करने के पर्याप्त अवसर दिए गए। हालांकि, उन्होंने आत्मसमर्पण करने से इनकार कर दिया और इसके बजाय संयुक्त तलाशी दल पर अंधाधुंध गोलीबारी की, जिसकी जवाबी कार्रवाई में मुठभेड़ शुरू हो गई।मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए और उनके शव घटनास्थल से बरामद किए गए हैं। उनकी पहचान शोपियां जिले के बरारीपोरा निवासी सज्जाद अहमद चक और पुलवामा (Pulwama) जिले के आचन लिटर निवासी राजा बासित याकूब के रूप में हुई है। पुलिस ने कहा, पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार मारे गए दोनों आतंकवादियों को प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े आतंकवादियों के रूप में वर्गीकृत किया गया था और वे कई आतंकी मामलों में शामिल समूहों का हिस्सा थे। इसके अलावा, मारे गए आतंकवादी सज्जाद ने युवाओं को आतंकी संगठनों में शामिल होने के लिए प्रेरित करने और भर्ती करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके पास से आपत्तिजनक सामग्री, हथियार और गोला-बारूद, दो एके-सीरीज राइफल, चार एके मैगजीन और 32 राउंड बरामद किए गए हैं। गौरतलब है कि पिछले कुछ महीनों से घाटी में आतंकी घटनाएं बढ़ गई हैं। अब तक आतंकियों ने कई लोगों को अपना निशाना बनाया है, लेकिन लगातार हो रहे इन हमलों को देखते हुए सुरक्षाबलों ने अपना नया ऑपरेशन शुरू कर दिया है, जिसके जरिए अब ओवर ग्राउंड वर्कर (Over Ground Worker) को पकड़ने की कोशिश की जा रही है। ओवर ग्राउंड वर्कर वो लोग हैं जो आतंकियों को हर इनपुट पहुंचाते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है