Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

UP ‘बस Politics’: कांग्रेस MLA ने अपनी पार्टी पर ही उठाए सवाल; योगी के परिवहन मंत्री ने भी घेरा

UP ‘बस Politics’: कांग्रेस MLA ने अपनी पार्टी पर ही उठाए सवाल; योगी के परिवहन मंत्री ने भी घेरा

- Advertisement -

लखनऊ। देश में जारी कोरोना वायरस के कहर के बीच उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) और सूबे की योगी सरकार के बीच शुरू हुई बस पॉलिटिक्स में रोज ही नए ट्विस्ट आते जा रहे हैं। इसी सिलसिले में आज योगी सरकार के परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने कांग्रेस (Congress) द्वारा मजदूरों को लाने के लिए भेजी जा रही बसों को लेकर कहा कि कांग्रेस प्राइवेट बसों के बजाय राजस्थान (Rajasthan) रोडवेज की बस भेज रही है, जो हम किसी पार्टी से नहीं ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगर हमें राजस्थान रोडवेज की बस लेनी होगी तो सरकार आपस में बात करके लेगी। वहीं दूसरी तरफ रायबरेली से कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने भी इस मामले में एंट्री ले ली है।

कांग्रेस विधायक अदिति सिंह बोलीं- ये क्रूर मजाक है

कांग्रेस विधायक अदिति सिंह (Aditi Singh) ने अपनी पार्टी पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि ये क्रूर मजाक है। इस पूरे मसले पर अपनी पार्टी के रुख की कड़ी आलोचना करते हुए अदिति सिंह ने ट्वीट किया, ‘आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत, एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 ऑटो रिक्शा व एबुंलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र में क्यूं नहीं लगाई।’

यह भी पढ़ें: कोरोना का खौफः मंडी में SP Office से लेकर थानों तक SOP लागू 

कांग्रेस को इतनी चिंता है तो राजस्थान से मजदूरों को सीधे UP क्यों नहीं भेज रही

वहीं परिवहन मंत्री अशोक कटारिया (Ashok Kataria) ने कांग्रेस को घेरते हुए कहा है कि हमारे पास पर्याप्त बसें हैं और हम लगातार लाखों लोगों को पहुंचा रहे हैं। कांग्रेस सिर्फ राजनीति कर रही है। यह जो 879 बसें ठीक बताई जा रही हैं, वह सब राजस्थान सरकार की हैं। अगर कांग्रेस को इतनी ही चिंता है तो वह राजस्थान से मजदूरों को सीधे उत्तर प्रदेश क्यों नहीं भेज रही। कटारिया ने कहा कि मजदूरों को लाकर बॉर्डर पर क्यों छोड़ा जा रहा है? हम सरकार की बसें किसी पार्टी से नहीं ले सकते। सरकार की बसों को सरकार के द्वारा ही लिया जा सकता है। हमारे चीफ सेक्रेट्री उनके चीफ सेकेट्री से बात कर यह कर सकते हैं। अगर कांग्रेस इतनी ही उतावली है तो कोटा से बच्चों को निकालते वक्त उसने बस क्यों नहीं दी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है