Covid-19 Update

58,460
मामले (हिमाचल)
57,260
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,046,914
मामले (भारत)
113,175,046
मामले (दुनिया)

मिर्जापुर में गरजे MODI, 11 मार्च को SP-BSP-Congress को लगेगा करंट

मिर्जापुर में गरजे MODI, 11 मार्च को SP-BSP-Congress को लगेगा करंट

- Advertisement -

मीर्जापुर। पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को यूपी के मीर्जापुर में कांग्रेस-एसपी गठबंधन पर हमला बोलते हुए कहा कि यूपी से अब ‘खटिया और कटिया’ के जाने का वक्त आ गया है। उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की खाट सभा और बिजली को लेकर सीएम अखिलेश यादव के दावों पर तीखे तंज कसे। साथ ही उन्होंने बीएसपी सुप्रीमो मायावती को भी घेरा। उन्होंने कहा कि मायावती को मीर्जापुर के पत्थरों से नफरत है। पीएम मोदी ने यूपी में भ्रष्टाचार के चार प्रकार भी बताए। रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने सीएम अखिलेश यादव के उस बयान पर पलटवार किया जिसमें उन्होंने मोदी के लिए कहा था कि बिजली का तार पकड़ कर देख लीजिए कि यूपी में बिजली आती है या नहीं। मोदी ने कहा कि आपके नए यार खाट सभा करने निकले थे। 14 सितंबर 2016 को मड़िहान में राहुल जी की खाट सभा थी और वहां उनका हाथ बिजली के तार पर लग गया तो गुलाम नबी आजाद चिल्लाए कि मुसीबत हो जाएगी तो राहुल जी ने कहा कि चिंता मत कीजिए…यह यूपी है यहां तार तो है, पर बिजली नहीं आती।

  • खाट सभा-बिजली को लेकर अखिलेश यादव पर PM ने कसा तंज
  • बोले, यूपी से अब ‘खटिया और कटिया’ के जाने का वक्त

आपके इस नए यार ने ही बता दिया तो मुझे तार छूने की क्या जरूरत है। मोदी ने कहा कि यूपी की जनता ने इस बार ऐसा तार बिछाया है कि 11 मार्च को एसपी, बीएसपी और कांग्रेस को करंट लगने वाला है। उन्होंने कहा कि अखिलेश जी ने कहा था कि हम तो यहां कटिया डालने से भी नहीं रोकते। एक तरफ खटिया है या दूसरी तरफ कटिया है, अब तो आपका जाना तय है। मोदी ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती को भी मीर्जापुर के पत्थरों का जिक्र कर के घेरा।

उन्होंने कहा कि बहन जी, यह कैसी शर्मिंदगी है…मीर्जापुर के पत्थरों से आपका क्या झगड़ा था…? अपनी मूर्तियां बनवाने के लिए पीछे के दरवाजे से पत्थर ले गए, पर जब जांच हुई तो बताया कि पत्थर तो राजस्थान से लाए हैं। क्या मीरजापुर से आपको नफरत है कि यहां का नाम नहीं लिया। यूपी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा प्रधानमंत्री ने कहा कि यूपी में चार तरीके से भ्रष्टाचार हो रहा है। नजराना, शुकराना, हकराना और जबराना। उन्होंने कहा कि नजराना यानी काम करने से पहले पैसा, शुकराना यानी काम होने के बाद, हकराना मतलब फाइल आगे नहीं बढ़ेगी और जबराना यानी काम भी नहीं करेंगे और पैसा भी दो। पीएम मोदी ने कहा कि इन चार तरह के भ्रष्टाचार के इलाज की सिर्फ एक ही दवाई है और वह है हराना।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है