Covid-19 Update

58,877
मामले (हिमाचल)
57,386
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,156,748
मामले (भारत)
115,765,405
मामले (दुनिया)

Himachal : सौर ऊर्जा के दोहन से रोशनी से जगमगाए दुर्गम क्षेत्र, बिजली बिलों में भी आई कमी

ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट बने वरदान, बेरोजगार युवाओं को मिला रोजगार

Himachal : सौर ऊर्जा के दोहन से रोशनी से जगमगाए दुर्गम क्षेत्र, बिजली बिलों में भी आई कमी

- Advertisement -

शिमला। दुर्गम क्षेत्रों में बिजली की समस्या के समाधान के लिए प्रदेश सरकार (State Govt) ने हिमऊर्जा विभाग के माध्यम से सौर ऊर्जा (Solar Energy) का उपयोग करने के लिए व्यापक कार्यक्रम चलाया है। इसके अंतर्गत जहां दुर्गम क्षेत्रों के लोगों की बिजली की समस्या का समाधान हुआ है। वहीं, प्रदेश के अन्य स्थानों पर भी सौर ऊर्जा के दोहन को बढ़ावा मिला है, जिससे लोगों के बिजली के बिल (Electricity bill) के रूप में होने वाले खर्च में भी कमी आई है। सौर ऊर्जा के दोहन से दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के घर रोशनी से जगमगा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: खेल मंत्री पठानिया का ऐलान-हिमाचल में बनेंगे 15 फैब्रिक स्टेडियम

हिमऊर्जा के गठन के बाद विभाग ने राज्य में अब तक 331.25 मेगावाट के 89 स्माल हाइड्रो यूनिट स्थापित किए जा चुके हैं। जो 5 मेगावाट तक के हैं, जो लोगों की बिजली की समस्या का समाधान करने में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। जिला चंबा में लगभग 82.7 मेगावाट, कांगड़ा जिला में 98.65 मेगावाट, किन्नौर जिला में 25.9 मेगावाट, कुल्लू जिला में 60 मेगावाट, मंडी जिला में 10.50 मेगावाट, शिमला जिला में 39 मेगावाट और सिरमौर जिला में 12 मेगावाट के स्माल हाइड्रो यूनिट स्थापित किए गए हैं।

 

 

ग्रिड कनेक्टिड सोलर रूफ टॉप पावर प्लांट भी स्थापित

हिमऊर्जा द्वारा 41 उन्नत घराट, 878 उन्नत चूल्हें और 17 विंड सोलर हाइब्रिड सिस्टम भी प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर स्थापित किए गए हैं। इसके अतिरिक्त विभाग द्वारा 164803 स्ट्रीट लाईटें, 69935 लालटेन, 27713 घरेलू लाईटें, 3152.45 कि.वा. के ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट, 14425.54 कि.वा. के ग्रिड कनेक्टिड सोलर रूफ टॉप पावर प्लांट और 20,24,000 सोलर वाटर हिटिंग सिस्टम लोगों को उपलब्ध करवाएं गए हैं। राज्य सरकार के वर्तमान कार्याकाल के दौरान किन्नौर (Kinnaur) जिला के गांव कुन्नू और चारंग में स्वच्छ बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कुन्नू गांव में 34 घरों और चारंग गांव में 40 घरों में एक किलोवाट के ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट निःशुल्क स्थापित किए। इसके अतिरिक्त चम्बा जिला के पांगी उपमण्डल में एक हजार बीपीएल परिवारों के घरों में गत दिसम्बर माह में 250 वाट के ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट स्थापित किए गए हैं ताकि इन दुर्गम क्षेत्रों में सर्दियों के दौरान होने वाली भारी बर्फबारी में बिजली के खंभों व तारों के टूटने के कारण उत्पन्न होने वाले विद्युत संकट से बचा जा सके।

राजधानी शिमला से लगभग 461 किमी दूर है पांगी क्षेत्र

पांगी क्षे़त्र राजधानी शिमला (Shimla) से लगभग 461 किलोमीटर दूर 7,000 से 11,000 फीट की ऊंचाई पर बसा हुआ है। यहां की आबादी 2011 की जनगणना के अनुसार 18,868 है। सर्दियों के दिनों में जब यह घाटी भारी बर्फबारी के कारण लगभग छह महीने बंद रहती है और विद्युत लाईनें भी बाधित हो जाती है, ऐसे में इस क्षेत्र के लिए प्रदेश सरकार ने बजट में 3.83 करोड़ रुपये का प्रावधान करके गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों के घरों को ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांटों से रोशन किया है।

स्कूली बच्चों के लिए वरदान बनी सोलर पावर प्लांट योजना

सोलर पावर प्लांट स्थापित होने से क्षेत्र के लोग खुश हैं। पांगी निवासी अश्विनी कुमार का कहना है कि पांगी क्षेत्र लगभग पांच.छः महीने बर्फ से ढका रहता है, जिससे हमें बिजली की समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन, अब प्रदेश सरकार द्वारा हिमऊर्जा के माध्यम से सोलर पावर प्लांट स्थापित किए जाने से हमें सर्दियों में बिजली की समस्या नहीं होगी। वहीं किलाड़ निवासी नेक राम और सुभाष सिंह का कहना है कि यहां सर्दियों के दिनों में मात्र एक-दो घंटे बिजली आती थी, जिससे स्कूल के बच्चों को पढ़ने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता था, अब सरकार की सोलर प्लांट योजना स्कूली बच्चों के लिए वरदान सिद्ध हुई है। इनका कहना है कि अब घर में टेलीविज़न तथा पांच एलईडी ट्यूब तक चल रहे हैं। पांगी के अविनाश ने भी बताया कि वे अपने घर में टेलीविज़न के अलावा 3 एलईडी ट्यूब भी सौर ऊर्जा से चला रहे हैं। साधारणतः 250 वॉट के इन सौर ऊर्जा प्लांटों से 9 वाट की 4 से 5 एलईडी ट्यूब लाईटें 5 घंटे से अधिक जलती हैं तथा 40 वॉट का एलईडी टेलीविज़न भी 4 घंटे चलता है। इन ऑफ ग्रिड सोलर प्लांट की मुरम्मत व रख-रखाव के लिए स्थानीय लोगों को प्रशिक्षित भी किया गया है।

शिमला में ग्रिड कनेक्टिड सौर ऊर्जा पावर प्लांट स्थापित

प्रदेश की राजधानी शिमला शहर में भी ग्रिड कनेक्टिड सौर ऊर्जा पावर प्लांट स्थापित किए गए हैं। शहर के लगभग 66 सरकारी कार्यालयों की छतों पर यह सौर ऊर्जा पावर प्लांट स्थापित किए गए हैं, जिनसे सरकारी कार्यालयों में भी बिजली के बिलों में बचत हुई है। इसके अलावा 23.25 मैगावाट की ग्रिड कनेक्टिड परियोजनाएं जमीन पर स्थापित की गई हैं, जिनके माध्यम से हिमाचली बेरोजगार युवकों को आमदनी तथा श्रम एवं स्थाई रोजगार के साधन सृजित हुए हैं।

दो ब्लॉकों से शुरू हुआ था कार्यक्रम

ग्रामीण क्षेत्रों में ऊर्जा की जटिल समस्या के समाधान हेतु भारत सरकार के योजना आयोग द्वारा वर्ष 1981 में राष्ट्रीय स्तर पर एकीकृत ग्रामीण ऊर्जा कार्यक्रम की शुरूआत की गई थी। हिमाचल प्रदेश में इस कार्यक्रम की शुरूआत छठी पंचवर्षीय योजना के अन्तिम वर्षों में की गई थी। कार्यक्रम के कार्यान्वयन के लिए एकीकृत ग्रामीण ऊर्जा कार्यक्रम विभाग की स्थापना की गई। प्रदेश में इस कार्यक्रम को सर्वप्रथम दो ब्लॉकों ठियोग (शिमला) तथा काजा (लाहुल स्पीति) में वर्ष 1984-85 में शुरू किया गया था, उसके बाद यह कार्यक्रम पूरे प्रदेश में चलाया गया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है