Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

Uttarakhand: सरकार ने मांगी बंदरों को मारने की अनुमति; पंतनगर में हाथी मरने से मचा हड़कंप

Uttarakhand: सरकार ने मांगी बंदरों को मारने की अनुमति; पंतनगर में हाथी मरने से मचा हड़कंप

- Advertisement -

देहरादून। केरल में हाथिनी की मौत होने के बाद से जहां पूरे देश में जानवरों के संरक्षण को लेकर बात की जा रही है, वहीं उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Govt) बंदरों को वन क्षेत्र से बाहर पीडक वन्यजीव घोषित किए जाने का प्रस्ताव भारत सरकार के पास भेजर उन्हें मारने की परमिशन मांगी है। सोमवार को हुई राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक में भी बंदरों (Monkey) की बढ़ती संख्या और उससे हो रहे नुकसान का विषय आया। इस पर बोर्ड को यह जानकारी दी गई कि इस संबंध में भारत सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है।

अगर अनुमति मिल भी जाती है तो कोई भी बंदरों को मारेगा नहीं

राज्य के वन मंत्री डॉ हरक सिंह रावत का यह कहना है कि मौजूदा वक्त में सूअर और बंदर खेती को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा रहे हैं। सूअर को मारने की तो परमिशन राज्य में पहले से है, लेकिन बंदरों को लेकर ऐसा नहीं है। वहीं मंत्री खुद यह भी कह रहे हैं कि अगर इस बात की अनुमति मिल भी जाती है तो कोई भी बंदरों को मारेगा नहीं। उन्होंने व्यक्तिगत तौर पर कहा कि वे खुद भी नहीं मारेंगे, भले ही वे इसकी अनुमति मांग रहे हैं। अब प्रश्न ये उठता है कि अब जब मंत्री खुद असमंजस में हैं तो फिर वन विभाग बंदरों को कैसे मार पाएगा?

यह भी पढ़ें: सूखी मेथी बताकर पकड़ा दिया गांजा: परिवार वालों ने सब्जी बनाकर खाई, हुआ ये अंजाम

हाथी की मौत से मचा हड़कंप, जांच जारी

अब इस असमंजस की स्थिति का निवारण कैसे होगा ये तो सूबे की सरकार जाने, लेकिन सब के बीच सूबे के पंतनगर (Pantnagar) से एक बुरी खबर सामने आई है। यहां पर तराई पूर्वी वन प्रभाग के गौल रेंज क्षेत्र में एक नर हाथी (Elephant) की मौत (Death) से वन विभाग में हडकंप मचा हुआ है। माना जा रहा है कि हाथी की मौत बीमारी की वजह से हुई है। वन विभाग की टीम ने हाथी के शव को कब्जे में ले लिया है। मृत हाथी का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। हाथी की मौत की सूचना मिलने के बाद तराई केंद्रीय वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी है। बुधवार सुबह कर्मचारियों ने रेंजर आरपी जोशी को सूचना दी कि गौल रेंज एक हाथी की मौत हो गई है। अनान-फानन में विभाग की टीम ने मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी। वन विभाग के अधिकारी हाथी की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए हाथी के शव का पोस्टमार्टम करा रहे हैं। फिलहाल यही माना जा रहा है कि हाथी की मौत बीमारी की वजह से हुई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है