Covid-19 Update

58,598
मामले (हिमाचल)
57,311
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,095,852
मामले (भारत)
114,171,879
मामले (दुनिया)

Budget session: स्वास्थ्य संस्थानों में Vacant post, माहौल गरमाया

Budget session: स्वास्थ्य संस्थानों में Vacant post, माहौल गरमाया

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य संस्थानों में खाली पदों को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच आज सदन में माहौल गरमाया। प्रश्नकाल के दौरान बीजेपी सदस्य महेंद्र सिंह के सवाल के दौरान विपक्ष ने आरोप लगाया कि स्वास्थ्य मंत्री हजारों पद के खाली होने के बाद भी अपनी पीठ थपथपा रहे हैं।

  • कांग्रेस ने 4 वर्ष में डाक्टरों के 500 पद सृजित किए
  • महेंद्र सिंह के सवाल पर कौल ने दिया जवाब

वहीं स्वास्थ्य मंत्री ठाकुर कौल सिंह ने विधानसभा में प्रश्नकाल में कहा कि बीजेपी के कार्यकाल की तुलना में कांग्रेस ने चार वर्ष में ज्यादा पदों को भरा है। इसके साथ-साथ उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी ने अपने कार्यकाल में डॉक्टर का एक पद भी सृजित नहीं किया, जबकि कांग्रेस ने 4 वर्ष में 500 पद सृजित किए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य संस्थानों में विभिन्न श्रेणियों के 22212 हजार स्वीकृत पदों में से 9087 पद खाली चल रहे हैं। मौजूदा कांग्रेस सरकार ने चार वर्ष में डॉक्टरों के 550 पद भरे हैं और 1250 के करीब स्टाफ नर्सों की भर्ती है। इसके साथ-साथ फार्मासिस्ट के और अन्य श्रेणियों के पद भी भरे हैं। बीजेपी सदस्य महेंद्र सिंह ने राज्य में स्वास्थ्य संस्थानों को लेकर सवाल किया था। उन्होंने सरकार से जानना चाहा था कि जो पद खाली चल रहे हैं, उन्हें भरने को क्या कदम उठाए गए हैं। उन्होंने डाक्टरों के खाली पद भरने को क्या कदम उठाए हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने सदन में जानकारी दी कि जो पद खाली चल रहे हैं, वे पिछले 20-25 वर्षों से खाली चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के पांच वर्ष के कार्यकाल में 473 पद स्वीकृत किए थे, जबकि कांग्रेस के चार वर्ष के कार्यकाल में 3248 पद स्वीकृत किए हैं। कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि सरकार फैसला लिया है कि 50 बिस्तरों के अस्पताल में डाक्टरों के 8 पद स्वीकृत हैं और 50 से 100 बिस्तरों के अस्पताल को केबिनेट में ही पद सृजित किए गए हैं। उनका कहना था कि सरकार ने चार वर्ष में डॉक्टरों के 500 पद सृजित किए हैं और अभी सदस्य बजट का इंतजार करें। विभाग ने सीएम से आग्रह किया है कि और पद सृजित किए जाएं और उम्मीद है कि बजट में और पद सृजित होंगे।

इस बीच, बीजेपी सदस्य डॉ. राजीव बिंदल ने अनुपूरक सवाल करते हुए आरोप लगाया कि स्वास्थ्य मंत्री हर बात पर राजनीति करते हैं। उन्होंने सवाल किया कि 22 हजार से अधिक पदों में से 9087 पद खाली हैं और स्वास्थ्य मंत्री अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 1597 पद पहले सृजित थे और आज स्थिति यह है कि इससे भी कम पद डॉक्टरों के भरे हैं। उन्होंने कहा कि आईजीएमसी शिमला में 1085 पद खाली, टांडा में 524 पद खाली है और नाहन में 1712 पद खाली हैं,जबकि चंबा में अभी तक एक पद भरा है और 200 खाली हैं और नेरचौक में 773 पद खाली हैं। उन्होंने पूछा कि खाली पदों को कब तक भरा जाएगा। इस पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार ने चरा वर्ष में कई पद भरे हैं और जो पद खाली चल रहे हैं वे पिछले कई साल से है। उन्होंने कहा कि एमसीआई ने आईजीएमसी और टांडा में मौजूदा पदों पर संतोष जताया है, क्योंकि कई पद ऐसे हैं जो आज फंक्शनल नहीं हैं। जहां तक नाहन की बात है, वहां एमबीबीएस के पहले सत्र के लिए जितने स्टाफ की जरूरत है, उतने पद भरे हैं और अगले वर्ष जितने की जरूरत होगी, उतने पद भरे जाएंगे। इस बीच, बीजेपी सदस्य रविंद्र रवि ने सवाल किया कि देहरा अस्पताल में डाक्टरों के खाली पदों को कब तक भरा जाएगा। कौल सिंह ने कहा कि जितनी फंक्शनल पदों की जरूरत रहती है, उतनी की सीएम स्वीकृति देते हैं। जहां तक देहरा अस्पताल की बात है, जैसे ही डाक्टरों का नया बैच आएगा, देहरा अस्पताल में डाक्टरों के खाली पदों को भरा जाएगा।

5 ट्रामा सेंटर स्थापित किए

कौल सिंह ने कहा कि राज्य में 5 ट्रामा सेंटर स्थापित किए गए हैं और राज्य सरकार ने केंद्र को 9 ट्रामा सेंटर स्वीकृत करने को लेकर प्रस्ताव भेजे हैं। उनका कहना था कि केंद्र ने अभी तक इन्हें स्वीकृति नहीं दी है। उन्होंने कहा कि वे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से आग्रह करेंगे कि इनकी स्वीकृति जल्द दे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है