Covid-19 Update

2,00,603
मामले (हिमाचल)
1,94,739
मरीज ठीक हुए
3,432
मौत
29,944,783
मामले (भारत)
179,349,385
मामले (दुनिया)
×

प्राथमिकता के आधार पर हो फार्मा कंपनियों के श्रमिकों का टीकाकरण, सरकार करेगी विचार

सीएम ने फार्मा कंपनियों से उत्पादन स्तर बढ़ाने का किया आग्रह

प्राथमिकता के आधार पर हो फार्मा कंपनियों के श्रमिकों का टीकाकरण, सरकार करेगी विचार

- Advertisement -

शिमला। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि सरकार प्रदेश में वैक्सीन (Vaccine) की आपूर्ति के दृष्टिगत फार्मा कंपनियों (Pharma Companies) के श्रमिकों का टीकाकरण (Vaccination) प्राथमिकता के आधार पर करवाने की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करेगी। उन्होंने फार्मा उद्योग को आश्वासन दिया कि उनकी सभी मांगों और मुद्दों का भी शीघ्र निवारण किया जाएगा। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने आज शिमला से राज्य के फार्मा उद्योग के प्रमुखों के साथ वर्चुअल माध्यम से बैठक की अध्यक्षता करते हुए उनसे सामूहिक रूप से महामारी से लड़ने के लिए अपना पूरा सहयोग प्रदान करने का आग्रह किया। सीएम ने कहा कि राज्य एशिया के फार्मा हब के रूप में उभरा है और पिछले एक साल से अधिक समय से कोविड-19 (Covid-19( महामारी के खिलाफ लड़ने में राष्ट्र की सहायता करने में देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है। उन्होंने कहा कि पहली लहर के दौरान भारत ने संयुक्त राज्य अमेरिका को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन (एचसीक्यू) की 50 मिलियन टेबलेट भेजी थीं और हिमाचल प्रदेश ने मानवता की सुरक्षा के लिए इस वैश्विक प्रयास में एचसीक्यू का निर्माण किया। उन्होंने कहा कि इस महामारी से लड़ने में फार्मा उद्योग की भूमिका महत्वपूर्ण थी और फार्मा उद्योग के प्रमुखों ने ना केवल कोविड-19 से लड़ने में राज्य सरकार को अपना पूरा सहयोग दिया, बल्कि सीएसआर (CSR) के तहत सरकार को सहायता भी प्रदान की।

यह भी पढ़ें: जयराम ठाकुर बोले- हिमाचल के अस्पतालों में ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति


ऑक्सीजन सिलेंडर प्रदान करने को फार्मा उद्योग का धन्यवाद

उन्होंने इन मुश्किल परिस्थितियों में राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता स्वास्थ्य अधोसंरचना के लिए आर्थिक योगदान करने के लिए फार्मा कंपनियों का धन्यवाद किया। उन्होंने राज्य को ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) प्रदान करने के लिए भी फार्मा उद्योग का धन्यवाद किया, जिसके कारण राज्य भंडारण क्षमता को लगभग 25 मीट्रिक टन बढ़ाने में सफलता मिली। उन्होंने फार्मा कंपनियों को ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर, सिलेंडर आदि मेडिकल उपकरणों के लिए विनिर्माण इकाइयाँ स्थापित करने के लिए भी आमंत्रित किया। जयराम ठाकुर ने कहा कि महामारी की दूसरी लहर अधिक घातक है और ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए हिमाचल प्रदेश पंजाब (Punjab), हरियाणा, चंडीगढ़ (Chandigarh), दिल्ली जैसे पड़ोसी राज्यों के लिए जीवन रेखा बनकर उभरा है। उन्होंने कहा कि यही नहीं, डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोविड किट और कई जीवनरक्षक दवाएं हिमाचल प्रदेश में निर्मित की जा रही हैं। उन्होंने फार्मा कंपनियों से अपने उत्पादन स्तर को बढ़ाने का आग्रह किया और उन्हें आश्वासन दिया कि राज्य सरकार सभी आवश्यक सहायता और सहयोग प्रदान करेगी।

यह भी पढ़ें: कोरोना से जंग लड़ने को अनुराग ने भेजी मदद, बोले – हर जिला में आवश्यकतानुसार भेजा जाएगा सामान
जल्द शुरू होगा ईएसआई अस्पताल कालाअंब

सीएम ने कहा कि क्षेत्र में पेशेवर होने के नाते प्रदेश सरकार हिमाचल प्रदेश को फार्मा क्षेत्र में अग्रणी निर्यातकों में से एक बनाने के लिए फार्मा उद्योग की भागीदारी चाहती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार व्यापार में सुगमता को बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और उद्योगों के समर्थन के फलस्वरूप राज्य ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस (Ease Of Doing Business) में देश में 7वां स्थान प्राप्त किया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग राम सुभाग सिंह ने कहा कि ईएसआई अस्पताल कालाअंब (ESI Hospital Kala Amb) को शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सिरमौर जिले के काला अंब में 220 केवी के सब स्टेशन के निर्माण का कार्य आवंटित कर दिया गया है। निदेशक एवं आयुक्त उद्योग हंसराज शर्मा ने सीएम एवं बैठक में उपस्थित अन्य अधिकारियों का स्वागत किया।

यह भी पढ़ें: First Hand: हिमकेयर-आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी Corona Patient को प्राइवेट अस्पतालों में फ्री इलाज

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि फार्मा उद्योग में उत्पादन निर्बाध रूप से हो। उन्होंने धन्यवाद प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया। हिमाचल प्रदेश राज्य ड्रग मैन्युफैक्चरर एसोसिएशन (Himachal Pradesh State Drug Manufacturers Association) के अध्यक्ष डॉ. राजेश गुप्ता ने फार्मा उद्योग को पिछले साल लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के दौरान भी अपने उत्पादन को बनाए रखने में हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए सीएम का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश ना केवल बेहतर वातावरण प्रदान करता है बल्कि सुशासन, बेहतर कानून एवं व्यवस्था तथा बेहतर औद्योगिक संबंधों को भी सुनिश्चित करता है, जो औद्योगिक विकास के लिए वरदान हैं। उन्होंने सीएम को आश्वासन दिया कि एसोसिएशन सीएसआर के तहत राज्य सरकार को हर संभव सहायता प्रदान करेगी।

यह भी पढ़ें: अब कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज 2 से 16 सप्ताह के बाद, पढ़ें क्या है मसला

मोरपेन के संजय सूरी, तिरुपति ग्रुप के अशोक गोयल, सन फार्मा के डॉ. एएच खान, एक्मे लाइसेंस के विराल शाह, सिप्ला के संजय मिश्रा, बीआर सीकरी, फारमेंटा बायोटेक के सुरेश उनियाल, डॉ. रेड्डी लैब्स के नारायण रेड्डी और चेतन, एबॉट के राकेश चितकारा, जायडस कैडिला के दीपक, ग्लेनमार्क के सत्य शिव देसाई और संजय सिंगला ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने सीएम से फार्मा उद्योग के श्रमिकों का टीकाकरण प्राथमिकता के आधार पर करवाने का भी आग्रह किया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है