- Advertisement -

वरुण मौत मामला: भाई ने मेडिकल काउंसिल पर डॉक्टरों को बचाने के जड़े आरोप

डीसी के माध्यम से सीएम को भेजा ज्ञापन, मांगी जांच

0

- Advertisement -

बिलासपुर। आईजीएमसी अस्पताल में हुई वरुण ठाकुर मौत मामले में वरुण के भाई मुनीश ठाकुर ने इसे डॉक्टरों पर लापरवाही बताया है। उन्होंने मेडिकल काउंसिल पर डॉक्टर को बचाने के लिए वरुण की किडनियां फेल होने का बहाना बनाने के भी गंभीर आरोप लगाए हैं।
वरुण के परिजनों ने बिलासपुर में मीडिया को बताया कि आईजीएमसी शिमला में दर्द से तड़फ रहे वरुण का 15 घंटों तक उपचार नहीं किया गया। जूनियर डॉक्टर ने वरुण ठाकुर की बिगड़ती हालत को देख बता दिया था कि वरुण की हालत नाजुक बनी हुई है, आप सीनियर डॉक्टर से शीघ्र संपर्क करें। परिजनों ने बताया कि बार-बार सीनयर डॉक्टर से आग्रह करने पर भी वह वरुण को देखने नहीं आए। हालांकि उसकी मौत के तुरंत बाद ही डॉक्टरों का एक दल मामले को दबाने के लिए आवश्य उमड़ पड़ा था। इस मामले को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल ने बिलासपुर डीसी के माध्यम से प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर को एक ज्ञापन भेजकर घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

क्या था मामला

बिलासपुर के जुखाला के वरुण (26) को पथरी की शिकायत के चलते 8 सितंबर को आईजीएमसी अस्पताल लाया गया। जहां पर डॉक्टरों ने टेस्ट लेने के बाद युवक को पहले हड्डी में परेशानी और उसके बाद किडनी में पथरी की शिकायत बताई और ऑपरेशन की सलाह दी। लेकिन, 10 सितंबर को युवक की किडनी में ज्यादा दर्द हुआ, जिसके बाद डॉक्टरों ने पेन किलर का इंजेक्शन दिया। इंजेक्शन लगाने के कुछ देर बाद ही युवक की मौत हो गई थी।

- Advertisement -

Leave A Reply