Expand

दाल-चावल खाने वाले मगरमच्छ की अंतिम यात्रा में रो पड़ा पूरा गांव

गांव में होगा मंदिर का निर्माण

दाल-चावल खाने वाले मगरमच्छ की अंतिम यात्रा में रो पड़ा पूरा गांव

- Advertisement -

नई दिल्ली। एक मगरमच्छ की अंतिम यात्रा में पूरा गांव रो पड़ा, क्योंकि इस मगरमच्छ का गांव के लोगों से गहरा रिश्ता था। लोग इस दाल-चावल खाने वाले मगरमच्छ के पास जाने में ज़रा भी संकोच नहीं करते थे, उसने कभी किसी गांववाले को नुकसान नहीं पहुंचाया था। गांववालों ने गंगाराम के अंतिम संस्कार के लिए एक ट्रेक्टर में अंतिम यात्रा निकाली। उसके अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई। गांव वासियों का कहना है कि वह कई पीढ़ियों से उनके साथ रह रहा था। उसकी याद में गांव वाले एक मंदिर का निर्माण करवाएंगे।


यह भी पढ़ें- लालच बुरी बला: रातों-रात अमीर बनने के चक्कर में जीवनभर की पूंजी गंवा दी

यह मामला छत्तीसगढ़ बेमेतरा जिले के बवामोहतरा गांव का है। जहां यह मगरमच्छ 125 सालों से गांव वालों के साथ रह रहा था। गांव वालों ने मगरमच्छ का नाम गंगाराम रखा था। गांव वाले जिस तरह इस मगरमच्छ का ख्याल रखते थे, वह भी गांववालों का वैसे ही ख्याल रखता था। तालाब में नहाते समय जब लोग गंगाराम से टकरा जाते थे तो वह दूर हट जाता था। गंगाराम सिर्फ तालाब में मौजूद मछलियां ही खाता था। मंगलवार सुबह जब गांववालों ने तालाब में जाकर देखा तो गंगाराम मर कर पानी के ऊपर तैर रहा था।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है