Covid-19 Update

59,032
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
116,748,718
मामले (भारत)
11,192,088
मामले (दुनिया)

रक्षाबंधन में इस जगह होता है खूनी खेल, जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी

रक्षाबंधन में इस जगह होता है खूनी खेल, जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी

- Advertisement -

देहरादून। रक्षाबंधन को भाई-बहन के बीच अटूट प्यार का त्योहार माना जाता है, लेकिन उत्तराखंड (Uttarakhand) के एक गांव में इस दिन खून की नदियां बहती हैं। यह एक ऐसा उन्मादी खेल है, जो तब तक चलता है जब तक एक आदमी के बराबर खून नहीं बह जाता। स्थानीय भाषा में अछ्पुत बग्वाल नाम का यह खेल जिला मुख्यालय चंपावत से 40 किलोमीटर दूर दूवीधूरा गांव में मां बाराही देवी के मंदिर के पास खेला जाता है।

ये भी पढ़ें : रक्षाबंधन विशेष : भाई-बहन का पवित्र रिश्ता

बग्वाल का मतलब है पत्थरों से खेला जाने वाला युद्ध। चार खामो और 7 थोक के लोग एक-दूसरे पर निशाना साधकर पत्थर चलाते हैं। मैदान (Ground) के चारों ओर वीर रस से ओतप्रोत गीत बजते हैं। पत्थरों की मार से बचने के लिए लोग अपने हाथ में बांस के फर्रे लिए होते हैं। फिर भी पत्थरों की चोट से लोग घायल होते हैं और खून भी बहता है। यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। पत्थरबाज टोलियों को वीर कहा जाता है। एक खेल में एक साथ बहुत से पत्थर चलते हैं जिससे आसपास खड़े तमाशबीन भी बड़ी संख्या में घायल होते हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है