Covid-19 Update

2,00,085
मामले (हिमाचल)
1,93,830
मरीज ठीक हुए
3,418
मौत
29,823,546
मामले (भारत)
178,657,875
मामले (दुनिया)
×

Virbhadra बोले, Corona के ताजा एक्टिव मामले प्रशासन की लापरवाही का नतीजा

Virbhadra बोले, Corona के ताजा एक्टिव मामले प्रशासन की लापरवाही का नतीजा

- Advertisement -

शिमला। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) ने प्रदेश में कोरोना (Corona) के तीन ताजा एक्टिव केस व दो मौत होने पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि यह कहीं ना कहीं प्रशासन की लापरवाही का नतीजा (Results of Negligence) है। उनका कहना है कि एक ओर जहां प्रदेश के लोग लॉकडाउन का पूरा पालन किए हुए है,वही बाहर से आने वाले संक्रमित लोगों ने प्रदेश में चिंता को बढ़ा दिया है।। सिंह ने कहा लॉकडाउन-3 (Lockdown-3) के दौरान मंडी जिला में एकाएक दो लोगों के कोरोना से संक्रमित पाया जाना चिंता का विषय है। उन्होंने कहा है अन्य राज्यों से जो लोग प्रदेश में अपने घर लौट रहे है, उनकी पूरी तरह से स्क्रीनिंग ना किया जाना इसका मुख्य कारण लगता है, और जिस तादाद से लोग यहां अपने घर आ रहें है. उससे इस महामारी के संक्रमण बढ़ने की किसी भी संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।


सुझाव पर जल्द शुरू हो काम

वीरभद्र सिंह ने कहा है कि जो भी लोग प्रदेश में अपने घर आ रहें है उनकें पूरे स्वास्थ्य की जांच कर पूरा कोरोना प्रोटोकॉल फॉलो किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि कोरोना का असर देश प्रदेश से जल्दी जाने वाला नहीं लगता। इसके लिए कोई ठोस कार्य योजनाएं बनाए जाने की बहुत ही जरूरत रहेगी। उन्होंने कहा है कि उन्होंने पिछले दिनों जो अपने पत्र में प्रदेश सरकार को सुझाव दिए थे उसे उनपर जल्द कार्य शुरू कर देना चाहिए। इससे पहले की यह माहमारी कोई विकराल रूप ना ले ले इसके लिए प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों में टेस्टिंग किट्स, सुरक्षा के उपकरण,वेंटीलेटर इत्यादि की व्यवस्था की जानी चाहिए। साथ हीं स्वास्थ्य सेवाओं में समय के अनुरूप विस्तार के लिए ओर अधिक बजट का विशेष प्रावधान करने की जरूरत भी रहेगी जिससे जिला के सभी अस्पतालों में टेस्टिंग सुविधा से इस प्रकार की किसी भी माहमारी का तुरंत पता लग सकें।

गंभीर हालत, बड़ी चिंता का विषय

पूर्व सीएम (Ex CM) ने कहा है कि लॉकडाउन की बजह से बेरोजगारी के चलते अन्य राज्यों की भांति प्रदेश से भी हजारों कामगार, लेबर अपने अपने घरों को पलायन कर चुकी है। उनका कहना है कि इसका प्रदेश की आर्थिकी पर विपरीत असर पड़ेगा। प्रदेश में कृषि और बागवानी में लेबर का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहता है,इस बार इनके यहां ना होने से एक बड़ी गंभीर समस्या पैदा होने वाली है। उनका कहना है कि अगर प्रदेश सरकार ने लॉकडाउन के इस समय में इनके खाने.पीने की अगर कोई उचित व्यवस्था की होती तो इस समस्या से बचा जा सकता था। सिंह ने कहा है कि आज देश मे कोरोना को लेकर जो गंभीर हालत पैदा हो गए है वह बड़ी चिंता का विषय बन गया है।  देश में आज लोगों के बीच एक अफरातफरी का माहौल बना हुआ है। लाखों लोग बेरोजगारी की मार झेलते हुए अपने घरों को जानें के लिए आतुर है।देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह एक जगह ठहर गई है।देश में भयानक मंदी का दौर शुरू हो गया है।आने वाला समय और भी भयावह हो सकता है, अगर अभी से कोई ऐसे कदम ना उठाए गए जिनमें अर्थव्यवस्था के साथ साथ रोजगार को भी गति मिल सके।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है