Expand

वीरभद्र के बोलः सीएम प्रोजेक्शन को लेकर धराशायी हुई रैली

वीरभद्र के बोलः सीएम प्रोजेक्शन को लेकर धराशायी हुई रैली

- Advertisement -

मंडी। सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा है कि बीजेपी की धराशायी हुई रैली इस बात का धोतक है कि भगवां पार्टी में मुख्यमंत्री पद पर किसे प्रोजेक्ट करना है को लेकर अंतर्द्वंद चल रहा है। उन्होंने कहा कि शांता तो इस दौड़ में ही नहीं हैं, पर जगत प्रकाश नड्डा व प्रेम कुमार धूमल के बीच दिलचस्प मुकाबला होगा। जबकि कांग्रेस पार्टी पूरी तरह संगठित है। सिंह ने यह बात मंडी में पत्रकारों से बातचीत में कही।
15 हजार की ही भीड़ जुट पाई
rellyवीरभद्र सिंह ने कहा कि बीजेपी नेताओं का यह दावा कि परिवर्तन रैली में एक लाख से अधिक लोग शामिल होंगे, पूरी तरह से धराशायी हुआ है, क्योंकि रैली में लगभग 15 हजार या इससे कुछ अधिक लोग ही जुटे। रैली के दौरान पीएम के इस बयान पर कि कांग्रेस पार्टी को किसी श्रेष्ठ उपलब्धियों व विकास कार्यों के लिए लोग याद नहीं करते हैं पर सीएम ने कहा कि प्रदेश के लोग बेहतर जानते हैं कि विकास किसने किया है। उन्होंने कहा कि एक स्वतंत्र एजेंसी द्वारा करवाए गए सर्वेक्षण में प्रदेश को देश के बड़े श्रेणी के राज्यों में शिक्षा में सर्वश्रेष्ठ तथा समावेशी विकास में सुधार के लिए श्रेष्ठ राज्य चुना गया है और ये पुरस्कार अगले माह प्रदान किए जाएंगे। शिक्षा प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है और कांग्रेस सरकार इसकी परवाह नहीं करती कि रैली में क्या कहा क्योंकि प्रदेश के लोग जानते हैं कि कांग्रेस पार्टी विकास का पर्याय है।
mpस्वच्छता अभियान का श्रेय रामस्वरूप को देना दुर्भाग्यपूर्ण
पीएम द्वारा मंडी जिला में स्वच्छता अभियान का श्रेय स्थानीय सांसद राम स्वरूप को देने पर पूछे गए सवाल के जबाव में सीएम ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि स्वच्छता अभियान के लिए मौजूदा सांसद को श्रेय दिया गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पूरे प्रदेश में सम्पूर्ण स्वच्छता अभियान व सफाई अभियान चलाया जो अब भी जारी है, जिसका सरकार द्वारा नियमित रूप से अनुश्रवण किया जा रहा है। मंडी के सांसद की इस अभियान में कोई भी भूमिका नहीं रही है और संभवतः उन्होंने एक पत्ता तक भी नहीं उठाया होगा। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश सरकार के कठिन परिश्रम की बदोलत ही संभव हो पाया है कि आज हिमाचल ग्रीन व क्लीन बना है। सीएम ने कहा कि जहां तक सड़कों का संबंध है, अब मात्र दो या तीन गांव सड़क सुविधा से जुड़ने से बचे हैं।

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार के शासनकाल के दौरान सड़कों का निर्माण यूपीए सरकार द्वारा पीएम ग्राम सड़क योजना तथा नाबार्ड के माध्यम से प्रदान की गई धनराशि से किया गया और उस समय मात्र कुछ ही गांवों को सड़कों से जोड़ा गया। उन्होंने कहा कि आज कठिन एवं दूरदराज व जनजातीय क्षेत्रों को सड़क सुविधा से जोड़ा गया है जो वर्तमान प्रदेश सरकार के कठिन प्रयासों से संभव हो पाया है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है