Covid-19 Update

1,98,551
मामले (हिमाचल)
1,90,377
मरीज ठीक हुए
3,375
मौत
29,505,835
मामले (भारत)
176,585,538
मामले (दुनिया)
×

प्रतिमाह 25 हजार कमाना चाहते हैं ? तो बनें मोदी सरकार की इस योजना का हिस्सा

प्रतिमाह 25 हजार कमाना चाहते हैं ? तो बनें मोदी सरकार की इस योजना का हिस्सा

- Advertisement -

नई दिल्ली।अगर आप हर महीने 25 हजार रुपए कमाना चाहते हैं तो केंद्र की मोदी सरकार की जन औषधि स्टोर योजना का हिस्सा बन जाएं। केंद्र सरकार अगले साल मार्च तक देशभर में 5000 जन औषधि स्टोर खोलने की योजना बना रही है। अगले पांच माह में 700 स्टोर खोले जाने हैं। अगर आप इस योजना की शर्त पर खरे उतरते हैं तो आपको सरकार प्रतिमाह 25 हजार रुपए की सैलरी देगी।

वैसे 25 हजार रुपए की प्रतिमाह कमाई न्यूनतम ही होगी, क्योंकि जन औषधि स्टोर में दवाओं की बिक्री तेजी से बढ़ रही है। इस बिक्री में आपको कमीशन और इंसेंटिव भी मिलेगा। ऐसे में आपकी कमाई बढ़ने की पूरी संभावना है। सरकार आपको तब तक कमीशन और इंसेंटिव देगी, जब तक कि स्टोर खोलने के लिए 2.5 लाख की रकम पूरी तरह से वसूल न जाए।दवा की दुकान खोलने में तकरीबन 2.5 लाख रुपए ही खर्च होता है, ऐसे में यह पूरा खर्च सरकार खुद उठा रही है। यह इंसेंटिव 10 हजार रुपए अधिकतम मंथली बेसिस पर मिलेगा।


इन तीन कैटेगरीज को मिलेगा जन औषधि स्टोर खोलने का मौका

जन औषधि स्टोर खोलने के लिए सरकार ने 3 कैटेगरी बनाई है। पहली कैटेगरी में कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर स्टोर खोल सकेगा। दूसरी कैटेगरी में ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी और सेल्फ हेल्प ग्रुप को स्टोर खोलने का मौका मिलेगा। वहीं तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों द्वारा नॉमिनेट की गई एजेंसी होगी। दुकान खोलने के लिए 120 वर्गफुट एरिया में दुकान होनी जरूरी है। सेंटर खोलने वालों को सरकार की ओर से 650 से ज्यादा दवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है