Covid-19 Update

58,800
मामले (हिमाचल)
57,367
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,137,922
मामले (भारत)
115,172,098
मामले (दुनिया)

पानी की परेशानीः औट पंचायत के एक दर्जन गांव, 18 साल से प्यासे

पानी की परेशानीः औट पंचायत के एक दर्जन गांव, 18 साल से प्यासे

- Advertisement -

वी कुमार/ मंडी। जिला की ग्राम पंचायत औट के एक दर्जन गांव बीते 18 वर्षों से पानी की समस्या से जूझ रहे हैं, लेकिन आज दिन तक ग्रामीणों की इस समस्या के समाधान की जहमत न तो विभाग उठा सका और न ही कोई सरकार। आलम यह है कि स्कूलों के शौचालय बंद कर दिए गए हैं और बच्चों को गंदा पानी पीने पर मजबूर होना पड़ रहा है। बहरहाल, ग्रामीण विकास को अपनी प्राथमिकता बताने वाली सरकार और हर घर के नल में पानी देने का दम भरने वाले आईपीएच विभाग को ग्राम पंचायत औट के एक दर्जन गांवों का भ्रमण जरूर करना चाहिए। यहां दावों की हकीकत पता चल जाएगी। मंडी जिला के द्रंग विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाली ग्राम पंचायत औट के खमराधा, सतलगी, रूहडू, बछीरा, बजा, डोभा, सहड़ीधार, बागी, बहरीधार, घमौती, खीणी, चटैउगी, गरसाण, जला और कासना गांवों की लगभग 4 हजार की आबादी बीते 18 वर्षों से पानी की विकराल समस्या से जूझ रही है। हालांकि इन गांवों के लिए विभाग ने 2004 में एक योजना भी बनाई थी, लेकिन सिर्फ कहने के लिए, लाभ उसका आज दिन तक नहीं मिला।

कई बार की शिकायत पर नहीं हुआ समाधान

ग्रामीण चतर सिंह ने बताया कि सरकार से लेकर विभाग तक को कई बार इसकी शिकायत दी, लेकिन समाधान आज दिन तक नहीं हो सका। गौर रहे कि पहले ग्रामीण प्राकृतिक जल स्त्रोतों का सहारा लेकर जीवन यापन कर लेते थे, लेकिन वर्ष 2000 में गांव के नीचे नेशनल हाइवे 21 पर औट के पास एक टनल बनी। इस टनल के बनने से पानी का रिसाव हुआ और अधिकतर जल स्त्रोत सूख गए। अब इसी गांव के नीचे से होकर फोरलेन की टनल बनने जा रही है, जिससे बाकी जलस्त्रोतों के सूखने का खतरा बन गया है। स्थानीय निवासी सुरेंद्र और निर्मला देवी ने बताया कि ग्रामीणों के पास जो इक्का-दुक्का जल स्त्रोत बचे हैं वो भी कोसों दूर हैं और वहां पर भी लाइनों में खड़े होकर पानी भरना पड़ता है। ग्रामीणों के पास दिन भर एक ही काम रह गया है और वह है पानी ढोकर लाने का। इन गांवों में पानी की समस्या इतनी विकराल हो चुकी है कि स्कूल जाने वाले नौनिहालों को भी पीने का पानी नसीब नहीं हो रहा है। प्राइमरी स्कूल खमरादा की अध्यापिका रिचा पठानिया ने बताया कि जब कभी पानी आता है तो वह गंदा होता है और उसी पानी को बच्चों को पिलाने व खाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। वहीं पानी न होने के कारण शौचालयों के इस्तेमाल पर तो पाबंदी ही लगा दी गई है। बहरहाल, लोगों ने विभाग से जल्द पानी की परेशानी को दूर करने की गुहार लगाई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है