Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

तो इसलिए इंसान का खून पीते हैं मच्छर, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

तो इसलिए इंसान का खून पीते हैं मच्छर, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

- Advertisement -

बरसात का मौसम है और ऐसे में आप मच्छरों से भी बड़े परेशान होंगे। आपके दिमाग में ये सवाल तो जरूर आता होगा कि आखिर च्छर (Mosquitoes) खून क्यों चूसते हैं? उन्हें खून पीने की आदत कैसे पड़ी? इसका जवाब वैज्ञानिकों ने खोज लिया है। वैज्ञानिकों ने इसके पीछे की जो वजह पता की है, उसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। मच्छरों ने इंसानों और अन्य जानवरों का खून पीना इसलिए शुरू किया क्योंकि वो सूखे प्रदेश में रहते थे। जब भी मौसम सूखा होता है और मच्छरों को अपने प्रजनन के लिए पानी नहीं मिलता तो वे इंसानों या जानवरों का खून चूसना शुरू कर देते हैं।

यह भी पढ़ें: शख्स को भारी पड़ गया अधपकी मछली खाना, इल्ली ने Lever में दे दिए अंडे

 

न्यू जर्सी की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अफ्रीका के एडीस एजिप्टी (Aedes Aegypti) मच्छरों पर रिसर्च की। ये वही मच्छर हैं जिनकी वजह से जीका वायरस फैलता है। इनकी वजह से ही डेंगू और पीला बुखार होता है। न्यू साइंटिस्ट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक अफ्रीका के मच्छरों में एडीस एजिप्टी मच्छर की कई प्रजातियां है। सारी प्रजातियों के मच्छर खून नहीं पीते। ये कई अन्य चीजों को खा-पीकर अपना गुजारा करते हैं। प्रिंसटन यूनिवर्सिटी (Princeton University) की रिसर्चर नोआह रोज कहती हैं कि किसी ने अभी तक मच्छरों की विभिन्न प्रजातियों के खान-पान को लेकर अध्ययन नहीं किया। हमने अफ्रीका के सब-सहारन रीजन के 27 जगहों से एडीस एजिप्टी मच्छर के अंडे लिए। हमने इन अंडों से मच्छरों को निकलने दिया। फिर इन्हें इंसान, अन्य जीव, गिनी पिग जैसे पर लैब में बंद डिब्बों में छोड़ दिया ताकि उनके खून पीने के पैटर्न को समझ सकें।

 

 

एडीस एजिप्टी मच्छरों की अलग-अलग प्रजातियों के मच्छरों का खान-पान एकदम अलग निकला। नोआह बताती हैं कि ये बात एकदम गलत साबित हो गई कि सारे मच्छर खून पीते हैं। हुआ यूं कि जिस इलाके में सूखा या गर्मी ज्यादा पड़ती है। पानी कम होता है। वहां पर मच्छरों को प्रजनन (Reproduction) के लिए नमी की जरूरत पड़ती है। पानी की कमी को पूरा करने के लिए मच्छर इंसानों और अन्य जीवों का खून पीना शुरू कर देते हैं। मच्छरों के अंदर ये बदलाव कई हजार साल में आया है। एडीस एजिप्टी मच्छरों की खास बात ये थी कि बढ़ते शहरों की वजह से पानी की किल्लत से जूझने लगे। तब जाकर इन्हें इंसानों का खून पीने की जरूरत पड़ने लगी। लेकिन, जहां इंसान पानी जमा करके रखते हैं वहां पर एनोफिलीस मच्छरों (मलेरिया करने वाला) को कोई दिक्कत नहीं होती। ये अपना प्रजनन कूलर, गमले, क्यारी जैसी जगहों पर कर लेते हैं। लेकिन जैसे ही पानी की कमी महससू होती है ये तुरंत इंसानों या अन्य जीवों पर खून पीने के लिए हमला कर देते हैं।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है