Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,123,619
मामले (भारत)
114,991,089
मामले (दुनिया)

रहने को घर नहीं, आईआरडीपी से नाम भी काट दिया

रहने को घर नहीं, आईआरडीपी से नाम भी काट दिया

- Advertisement -

ऋषि महाजन/ नूरपुर। न रहने को आशियाना न पेटभर खाना। ऊपर से पंचायत ने आईआरडीपी से भी काट दिया नाम। ऐसी ही स्थिति है सलयाली पंचायत के वार्ड नंबर दो में रहने वाली 48 वर्षीय विधवा शाहणो देवी की। शाहणों देवी मनरेगा में काम कर अपने परिवार का पालन कर रही है। उसके परिवार में एक 22 वर्षीय बेटी उर्मिला है, जो बचपन से ही अपंग है। इसके अलावा एक 17 वर्षीय बेटा भी है। इस परिवार के पास रहने के लिए खुद का घर भी नहीं है। शाहणो देवी अपने जेठ के घर में एक कमरे में रहने को मजबूर है।

वहीं काफी समय से आईआरडीपी में शामिल शाहणो देवी का अब वहां से भी नाम काट दिया गया है। हाल ही में शाहणो देवी की बेटी उर्मिला ने लोहारपुरा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए आवेदन किया था। लेकिन अपंग होने के बावजूद उर्मिला को न रखकर इस परिवार के साथ अन्याय किया गया। इस बारे में वार्ड सदस्य सुषमा देवी ने बताया कि शाहणो देवी का नाम ग्राम सभा में सभी लोगों के सामने आईआरडीपी में डाला गया था, लेकिन पंचायत सचिव के पास पहुंची लिस्ट में शाहणो देवी का नाम गायब था।

वहीं सुल्याली पंचायत के उपप्रधान नरेश कुमार ने बताया कि शाहणो देवी का नाम बीपीएल में नाम था लेकिन ग्राम पंचायत में उसका नाम कट गया, जिसका उन्हें दुख है। उन्होंने बताया कि शाहणों देवी की आर्थिक स्थिति को देखते हुए डीसी कांगड़ा से कुछ और परिवारों को बीपीएल की सूची में डालने की अनुमति मांगी गई है। खंड विकास अधिकारी प्रकाश चंद ने बताया कि ग्राम सभा की लिस्ट अभी तक उनके पास नहीं आई है। ग्राम सभा की लिस्ट जब भी उनके पास आएगी तो उसकी अच्छी तरह से जांच की जाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है