Covid-19 Update

2,06,161
मामले (हिमाचल)
2,01,388
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,693,625
मामले (भारत)
198,846,807
मामले (दुनिया)
×

परीक्षा ली ही नहीं और दे दिए 85 Percent नंबर, जब पता चला तो….

परीक्षा ली ही नहीं और दे दिए 85 Percent नंबर, जब पता चला तो….

- Advertisement -

बैली स्कूल में नहीं घोषित हो सका चौथी का परीक्षा परिणाम

Exam Results : अपूर्व महाजन / डलहौजी। बनीखेत शिक्षा खंड के तहत एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें बच्चों के भविष्य पर ही सवालियां निशान लग गया है। शिक्षा खंड की राजकीय प्राथमिक पाठशाला बैली में एक विद्या उपासक ने बिना परीक्षा ही रिजल्ट बना दिया और सभी छात्रों को 85 फीसदी से ऊपर नंबर भी दे दिए और जब परीक्षा ली गई तो छात्रों के अंक 10 से अधिक नहीं बढ़ पाए। लिहाजा प्रभारी शिक्षक को नतीजा रद करना पड़ा। इसके चलते आज 31 मार्च को चौथी कक्षा का नतीजा घोषित नहीं हो पाया। इससे छात्रों और उनके अभिभावकों में काफी रोष है। हालांकि ग्रामीण विरोध स्वरूप स्कूल को ताला लगाने वाले थे, मगर गांव में एक व्यक्ति की मौत होने से ग्रामीण स्कूल नहीं पहुंच पाए।

ग्रामीण कल स्कूल में बोल सकते हैं हल्ला

ग्रामीण शनिवार को स्कूल में हल्ला बोल सकते हैं। शिकायतें हैं कि विद्या उपासक न बच्चों को पढ़ाती है और न ही स्टाफ के प्रति जवाबदेही समझती है। स्टाफ के साथ भी विद्या उपासक का व्यवहार अभद्र और गैर-जिम्मेदाराना है।  शिकायत के अनुसार किरण बाला को बच्चों को पढ़ाने से कोई वास्ता नहीं है। कक्षा में कुर्सी लगाकर सो जाती है और स्कूल की प्रभारी के आदेशों को भी ठेंगा दिखाती है। ये तमाम शिकायतें पाठशाला प्रबंधन समिति और अभिभावक सीएम तक कर चुके हैं, मगर न जाने सरकार शिकायतों को गंभीरता से क्यों नहीं ले रही है। बहरहाल 5वीं कक्षा में पहुंचने की खबर सुनने गए चौथी कक्षा के 7 विद्यार्थियों को उस वक्त निराश लौटना पड़ा जब उनका नतीजा ही घोषित नहीं हुआ।


एसएमसी दे चुकी है अल्टीमेटम

पाठशाला प्रबंधन समिति पहले ही शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों को अल्टीमेटम दे चुकी थी और साफ कर चुकी थी कि सत्र खत्म होने को है मगर विद्या उपासक ने पूरा साल न बच्चों को पढ़ाया और न ही परीक्षा ली। यहां तक कि चौथी कक्षा के विद्यार्थियों को अक्षर ज्ञान तक नहीं है। ग्रामीण विद्या उपासक कुमारी किरण पहले ई.जी.एस. (शिक्षा गारंटी योजना) के तहत भर्ती हुई थी, जिसमें ई.जी.एस. शिक्षक संघ के दबाव के बाद ईजीएस शिक्षकों को ग्रामीण विद्या उपासकों का नाम देकर पुन: रोजगार दिया गया।

शिक्षा उपनिदेशक तक पहुंचा मामला, कल करेंगे स्कूल का दौरा

वहीं इस बारे में ग्रामीण विद्या उपासक कुमारी किरण ने बताया कि मैं बीमार थी इसलिए परीक्षा नहीं ले सकी, प्रभारी शिक्षक मुझे अनावश्यक डांटती रहती हैं।  राजकीय प्राथमिक पाठशाला बैली की केंद्रीय मुख्य शिक्षक वीना पठानिया ने बताया कि मैंने खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी को नतीजा घोषित न होने की वजह बता दी है। वहीं शिक्षा खंड बनीखेत की प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी शशि देवी ने बताया कि विद्या उपासक को हमने 2 बार कारण बताओ नोटिस भेजे जिन्हें लेने से भी वह इंकार कर रही है। बहरहाल शिक्षा उपनिदेशक को शिकायत भेज दी गई है। इस बारे शिक्षा उपनिदेशक (प्रारंभिक) बलजीत पठानिया ने बताया कि बैली प्राथमिक पाठशाला में चौथी कक्षा का नतीजा घोषित न होने की शिकायत मिली है। कल स्कूल का दौरा करके उचित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है