Covid-19 Update

59,118
मामले (हिमाचल)
57,507
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,228,288
मामले (भारत)
117,215,435
मामले (दुनिया)

गुड़िया Murder Case: महिला आयोग ने Police जांच पर उठाए सवाल

गुड़िया Murder Case: महिला आयोग ने Police जांच पर उठाए सवाल

- Advertisement -

सरकार के काम पर भी उठाए सवाल, रिपोर्ट तैयार कर सीबीआई को देगा आयोग

शिमला। राष्ट्रीय महिला आयोग ने गुड़िया प्रकरण को लेकर की गई पुलिस जांच पर कई गंभीर सवाल उठाए हैं। आयोग ने इस प्रकरण पर पुलिस जांच से लेकर सरकार के कामकाज पर टिप्पणियां करते हुए कहा है कि कई ऐसे सवाल हैं जो अनसुलझे हैं और पुलिस के पास भी उनका कोई जवाब नहीं है। ऐसे में लगता है कि यहां पर तो दाल ही काली है।

आयोग इस प्रकरण पर सारी रिपोर्ट तैयार कर सीबीआई को देगा, ताकि उनके सवालों पर भी सीबीआई जांच करे। राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य सुषमा साहू ने यहां प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि उन्होंने यहां आकर गुड़िया के परिजनों से मुलाकात की और आज पुलिस लॉकअप में मारे गए आरोपी सूरज की पत्नी से भी बात की है। इसके बाद उन्होंने पुलिस के डीजीपी को भी बुलाया था, लेकिन वे तो नहीं आए, लेकिन एडीजीपी अतुल आए थे और उनसे इस संबंध में कई सवाल पूछे गए। 

सीएम के फेसबुक पर अपलोड़ हुई फोटो पर भी उठाए सवाल

उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर इनसे जो बातचीत हुई और पुलिस की जो जांच रिपोर्ट है, उसमें काफी कुछ गड़बड़ है। उन्होंने इस दौरान सीएम वीरभद्र सिंह, उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह, डीजीपी और अन्य पुलिस कर्मचारियों पर भी सवाल खड़े किए।

उन्होंने कहा कि डीजीपी आज कहां है, उसकी जानकारी उनके अधीनस्थ अफसरों तक को नहीं है। यह आश्चर्य की बात है। साहू ने कहा कि इस केस को देखने के बाद उनके कुछ सवाल हैं। उन्होंने पूछा कि गुड़िया मामले को लेकर कैसे सीएम के फेसबुक से कुछ लोगों की फोटो लोड़ हुई और फिर वे फोटो क्यों हटाए गए। उन्होंने कहा कि फोटो हटाने के क्या कारण थे, क्योंकि मामला संवेदनशील था।

उनका कहना था कि जिसने गलत फोटो लोड़ किए, उनके खिलाफ सीएम ने क्या कार्रवाई की। क्या उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। उन्होंने इस पूरे प्रकरण को लेकर सीएम से लेकर निचले स्तर के पुलिस अफसरों पर निशाना साधा और कहा कि इस मामले में सरकार आखिर किसे बचाना चाहती है। 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवाल

साहू ने गुड़िया के पोस्टमार्टम पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्ची की मौत से दो घंटे पहले चावल खाया गया है। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में कहा गया है कि मौत 4 जुलाई को शाम को 4 से 5 बजे के बीच हुई है और लाश 6 जुलाई की सुबह मिली है। उसका पोस्टमार्टम 7 को हुआ है और ऐसे में सवाल उठता है इतने दिन तक चावल पेट में वैसे का वैसे नहीं रह सकता। इसके अलावा गुड़िया के गले में ताजा निशान थे और यदि इसकी मौत 4 को हुई है तो निशान ताजा न रहते। उन्होंने कहा कि गुड़िया के पिता ने कहा कि उसकी टांग और बाजू टुटी थी और गले पर दबाने के ताजा निशान थे। इसके अलावा जंगल में इतने समय तक क्या कोई जानवर या कुत्ता तक भी नहीं गया। इसके अलावा उस पर कोई मक्खी तक कैसे नहीं लगी। उनका कहना था कि इससे कई सवाल खड़े होते हैं। अब सीबीआई आ गई है तो वह इन सवालों को तलाशेगी।

ममता ने जो कहा वह चौकान्ने वाला

साहू ने कहा कि वह सूरज की पत्नी से भी मिली हैं और पत्नी ने जो बताया है वह चौंकाने वाला है। उन्होंने कहा कि पुलिस पूछताछ के लिए सूरज को ले गई थी और रात को जब वह वापस आया तो उसका बुरा हाल था। उसने इतनी बुरी तरह मारा पीटा था कि पूरा शरीर सूजा हुआ था। ममता ने कहा कि पुलिस यह कहकर ले गई कि कुछ पूछताछ करनी है। ममता ने बताया कि सूरज ने उन्हें बताया था कि पुलिस वालों ने शराब पीकर उन्हें मारा पीटा। उन्होंने सवाल किया कि पुलिस कस्टडी में कैसे राजू ने उसे मारा। उस वक्त पुलिस क्या कर रही थी। साहु ने कहा कि ममता ने कहा कि वह और उनका पति 4 से 6 जुलाई तक दिहाड़ी पर थे और काम पर थे। राजू भी काम पर था और वह 5 जुलाई को अपनी मां के इलाज के लिए आईजीएमसी आया था और यह आईजीएमसी से पता किया जा सकता है और यहां की सीसीटीवी फुटेज भी बता सकती है।

प्रतिभा सिंह पर उठाए सवाल

सुषमा साहु ने इस दौरान सीएम वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह पर भी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि प्रतिभा सिंह गुड़िया के घर गई थी। उन्होंने वहां कहा कि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है और वे सीबीआई जांच की मांग न करें। साहू ने कहा कि गुड़िया की बहन ने उन्हें यह कहा कि प्रतिभा सिंह ने सीबीआई जांच की मांग न करने को कहा था। उन्होंने सवाल किया कि प्रतिभा सिंह ने ऐसा क्यों कहा। उन्होंने कहा कि प्रतिभा सिंह को सीबीआई से क्यों डर था। वे किसे बचाना चाहती थी। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि उन्हें एक मां होने का फर्ज निभाते हुए सीबीआई जांच की मांग करनी चाहिए थी।

साहू ने कोटखाई पुलिस थाने में आरोपी की हत्या पर भी सवाल उठाया और कहा कि पुलिस प्रशासन ने खाना-पूर्ति के लिए थाने के कुछ कर्मचारियों को सस्पेंड किया है। उन्होंने कहा कि गुड़िया प्रकरण में सरकार कई लोगों को बचाना चाहती है और पुलिस जांच में ऐसी मंशा दिख रही है। उन्होंने कहा कि आयोग ने सरकार को आदेश दिए हैं कि वह पीड़ित परिवार को सुरक्षा दे और उसके भाई के पढ़ने की व्यवस्था करने को भी कहा है। इसके अलावा सूरज की पत्नी ममता को भी पूरी सुरक्षा देने को कहा है। साहू ने कहा कि वह अपनी पड़ताल की रिपोर्ट सीबीआई को देंगी। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने 2013 से 2017 तक शिमला जिला के महिला प्रताड़ना के 16 मामले डीजीपी को दिए हैं और उनसे जल्द से जल्द अब तक की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है