Expand

World AIDS Day : सतर्कता अपेक्षित है

World AIDS Day : सतर्कता अपेक्षित है

- Advertisement -

जब भी 1 दिसंबर की तारीख आती है तो जनता को जागरूक करने के लिए एड्स दिवस आयोजित किया जाता है। यह एक खतरनाक बीमारी है जो मूलतः असुरक्षित यौन संबंध बनाने, संक्रमित रक्त चढ़ाने या दूषित सुई से इंजेक्शन लगाने से हो सकती है। समस्या यह है कि इस बीमारी  का पता काफी देर से चलता है। गौर तलब है कि मरीज भी एचआईवी के प्रति सजग नहीं रहते तथा इसके उभर रहे लक्षणों  को मामूली बीमारी समझ कर टाल देते हैं। एड्स दिवस के आयोजन की शुरुआत 1 दिसंबर, 1988 से हुई जब अचानक ही पूरे विश्व में महसूस किया जाने लगा कि इसका प्रभाव  भयावह रूप से विस्तार ले रहा है। सरकारी- गैर सरकारी तौर पर इसे खत्म करने के पूरे प्रयासों के बावजूद यह बीमारी  अभी खत्म नहीं हुई है और हमारे आसपास ही मौजूद है।

अब तक लगभग 35 मिलियन लोग इसके संक्रमण में आ गए हैं  और इनमें लाखों बच्चे भी हैं। एचआईवी-एड्स आज दुनिया भर के महाद्वीपों  aidsमें महामारी की तरह फैला है। भारत की समस्या यह है कि जिन्हें भी यह बीमारी है वे इसे स्वीकारने में संकोच करते हैं। इसके बावजूद शहरी क्षेत्रों में  लोग जागरूक हुए हैं और इसके संदर्भ में काउंसलिंग कराने वालों की संख्या भी बढ़ी है। इसके अधिक फैलने का कारण संक्रमित रक्त चढ़ाया जाना भी है। इस तरह देखें तो एड्स के बारे में जागरुकता  ज्यादातर शहरी क्षेत्रों  के उच्चवर्ग तक ही सीमित है।मध्य वर्ग इसकी चर्चा से बचना चाहता है और ग्रामीण तथा निम्नवर्ग के लोग इसके प्रति जागरूक नहीं हो पाए हैं। लोग कारण जानने के बावजूद सावधानियां नहीं बरतते।

एड्स के खिलाफ कितनी ही सरकारी और समाज सेवी संस्थाएं कार्य कर aids-2रही हैं इसके बावजूद हर तबके के लोग इस पर पूरा ध्यान नहीं दे रहे। गौरतलब है कि अगर एक स्वस्थ व्यक्ति भी एचआईवी पॉजिटिव के संपर्क में आ जाता है तो वह भी संक्रमित हो सकता है और उसे तब तक पता नहीं चलता जबतक पूरे लक्षण सामने नहीं आ जाते। एक संक्रमित मां अगर शिशु को स्तनपान कराती है तो वह बच्चा भी संक्रमित हो सकता है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि इस बीमारी के संबंध में जो भी दिशानिर्देश दिए जाएं उनपर ध्यान दें और अमल करें। कोई अगर इस बीमारी से संक्रमित हो तो उससे सहानुभूति का व्यवहार करें तथा उसका नियमित सही उपचार करवाएं। यह दिन इस संक्रमण के सभी कारणों से आपको अवगत करवाता है और आपको सुरक्षित करता है। अपनी पीढ़ियां सुरक्षित करने के लिए यह सतर्कता नितांत आवश्यक है।

https://youtu.be/437GkRj9w5Y

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है