Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

संकष्टी चतुर्थी : इस दिन भगवान गणेश की पूजा से दूर होंगे जीवन के विघ्‍न

संकष्टी चतुर्थी : इस दिन भगवान गणेश की पूजा से दूर होंगे जीवन के विघ्‍न

- Advertisement -

गणपति की पूजा यूं तो हर शुभ कार्य से पहले की जाती है लेकिन संकष्टी चतुर्थी पर भगवान गणेश (Lord ganesha) की पूजा का खास फल मिलता है। इस दिन भगवान गणेश की पूजा करने से सभी प्रकार के विघ्‍न जीवन से दूर हो जाते हैं। संकष्टी के दिन गणपति की पूजा से नकारात्मक प्रभाव दूर होते हैं और शांति बनी रहती है। ऐसा कहा जाता है कि गणेश जी घर में आ रही सारी विपदाओं को दूर करते हैं और व्यक्ति की मनोकामनाओं (Wishes) को पूरा करते हैं। इस दिन चन्द्र दर्शन भी बहुत शुभ माना जाता है। इस बार संकष्टी चतुर्थी 19 अगस्‍त यानी सोमवार को मनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें: सावन में शिवलिंग बनाकर पूजा करना है फलदायक, मिलता है विशेष लाभ


संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi) को ‘संकट चौथ’, ‘संकटहरा चतुर्थी’ तथा ‘गणेश संकष्टी चौथ’ भी कहा जाता है। इसे महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, पश्चिम तथा दक्षिण भारत में धूमधाम से मनाया जाता है।

संकष्टी चतुर्थी में इस बार पूजा का अभिजीत मुहूर्त- दोपहर 11:58 बजे से 12:50 तक है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर महीने 2 चतुर्थी आती हैं – विनायक चतुर्थी तथा संकष्टी चतुर्थी। हर माह के शुक्ल पक्ष की चौथी तिथि यानि कि चौथे दिन विनायक चतुर्थी आती है, वहीं कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी मनाई जाती है।


ऐसे करें पूजन :

  • “ॐ सिद्ध बुद्धि महागणपति नमः” इस मंत्र का जाप करें। व्रत करने वाले लोग संध्या को संकष्टी व्रत कथा का पाठ अवश्य करें। यदि शुभ मुहूर्त में पाठ किया गया तो फल जरूर मिलता है।
  • कुम्हार के चॉक की मिट्टी से अंगूठे के बराबर मूर्ति बनाकर उपरोक्त तरीके से पूजन करें तथा 101 माला ‘ॐ ह्रीं ग्रीं ह्रीं’ की जप कर हवन करें। नित्य 11 माला करें तथा चमत्कार स्वयं देख लें।
  • पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दिशा की ओर अपना मुख रखें। भगवान गणेश की प्रतिमा या चित्र सामने रखकर किसी स्वच्छ आसन पर बैठ जाएं। अब फल फूल, अक्षत, रोली और पंचामृत से भगवान गणेश को स्नान कराएं। इसके बाद पूजा करें और फिर धूप, दीप के साथ श्री गणेश मंत्र का जाप करें।
  • गणेश जी को तिल से बनी चीजों का भोग लगाएं। तिल का लड्डू या मोदक का भोग लगाने से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं। इसके बाद संभव होतो ये तीन उपाय कर सकतें हैं जो शत्रु बाधा शुभ कर्मों में लाभ प्राप्त होता है
  • शत्रु नाश हेतु नीम की जड़ के गणपति के सामने ‘हस्ति पिशाचि लिखे स्वाहा’ का जप करें। लाल चंदन, लाल रंग के पुष्प चढ़ाएं। पूजनादि कर मध्य पात्र में स्थापित कर दें तथा नित्य मंत्र जपें। शत्रु वशी हो तथा घोर से घोर उपद्रव भी शांत हो जाते हैं।


व्रत कथा 
:

सतयुग में महाराज हरिश्चंद्र के नगर में एक कुम्हार रहा करता था। एक बार उसने बर्तन बनाकर आंवा लगाया पर आंवा पका नहीं। बर्तन कच्चे रह गए, बार-बार नुकसान होते देख उसने एक तांत्रिक से पूछा तो उसने कहा कि बच्चे की बलि से ही तुम्हारा काम बनेगा। तब उसने तपस्वी ऋषि शर्मा की मृत्यु से बेसहारा हुए उनके पुत्र को पकड़ कर संकट चौथ के दिन आंवा में डाल दिया, लेकिन बालक की माता को बहुत तलाशने पर जब पुत्र नहीं मिला तो उसने गणेश जी से प्रार्थना की।

सुबह कुम्हार ने देखा कि आंवा पक गया, लेकिन बालक जीवित और सुरक्षित था, डरकर उसने राजा के सामने अपना पाप स्वीकार किया। राजा ने बालक की माता से इस चमत्कार का रहस्य पूछा तो उसने गणेश पूजा के विषय में बताया। तब राजा ने संकट चौथ की महिमा स्वीकार की तथा पूरे नगर में गणेश पूजा करने का आदेश दिया। इसके बाद से कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी मनाई जाती है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है