×

Himachal : सेना भर्ती में आने वाले युवाओं को बड़ी राहत, कोविड-19 टेस्ट करवाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

मेडिकल ऑफिसर द्वारा जारी फिटनेस सर्टिफिकेट के आधार पर ले सकेंगे सेना भर्ती में भाग

Himachal : सेना भर्ती में आने वाले युवाओं को बड़ी राहत, कोविड-19 टेस्ट करवाने की नहीं पड़ेगी जरूरत

- Advertisement -

ऊना। हिमाचल के ऊना (Una) जिला के इंदिरा स्टेडियम में चल रही खुली सेना भर्ती के दौरान अब युवाओं को कोविड-19 की नेगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य नहीं होगा। जिला में सैंपलिंग के लिए तय किए गए स्थानों पर उमड़ रही सैकड़ों युवाओं की भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने युवाओं को फिटनेस सर्टिफिकेट देकर ही सेना भर्ती में भाग लेने की छूट प्रदान की गई। हालांकि गुरुवार को जिला में सेना भर्ती (Army Recruitment) के चलते ही रिकॉर्ड सैंपलिंग की गई थी, जिसमें करीब 14 सौ लोगों की टेस्टिंग की गई। गुरुवार को पेश आई भारी परेशानी के चलते जिला प्रशासन ने फौरन फैसले को बदलते हुए अब युवाओं को सेना भर्ती में भाग लेने के लिए एसिंप्टोमेटिक सर्टिफिकेट देने का फैसला किया है। इस आशय की पुष्टि करते हुए सीएमओ ऊना (CMO Una) डॉ. रमन शर्मा ने कहा कि इस सर्टिफिकेट में युवाओं को पूरी तरह से फिट दर्शाया जाएगा, ताकि वह सेना भर्ती में भाग ले सकें। हालांकि इस सर्टिफिकेट के लिए युवाओं को महज स्क्रीनिंग की प्रक्रिया से गुजरना होगा।


यह भी पढ़ें: देशसेवा का जज्बा लिए पहले दिन बिलासपुर के 2200 ने लिया भर्ती प्रक्रिया में भाग

 

 

स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन द्वारा इसके लिए दो टीमों को सेना भर्ती स्थल के बाहर भी तैनात कर दिया है। जबकि रीजनल अस्पताल के अलावा सिविल अस्पतालों में भी युवाओं को फिटनेस सर्टिफिकेट (Fitness Certificate) देने के लिए मेडिकल ऑफिसर (Medical Officer) को दायित्व सौंपा गया है। सेना भर्ती में भाग लेने के लिए गुरुवार को कोविड-19 की सैंपलिंग करवाने आए युवकों में से करीब दो दर्जन युवाओं को पॉजिटिव पाया गया था। हालांकि इसके चलते युवाओं से अब रोजगार पाने का एक मौका जरूर छिन गया है। गुरुवार को संक्रमित पाए गए सेना भर्ती में जाने के इच्छुक अधिकतर युवा एसिंप्टोमेटिक थे, लेकिन शुक्रवार से फैसले में बदलाव करते हुए केवल फिटनेस सर्टिफिकेट देने के लिए जो व्यवस्था लागू की गई है। वह हजारों लोगों पर भारी भी पड़ सकती है। सीएमओ डॉक्टर मेजर रमन शर्मा से जब इस संबंध में बातचीत की गई तो वो कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। उन्होंने कहा कि युवाओं की स्क्रीनिंग के बाद ही फिटनेस सर्टिफिकेट जारी किए जाएंगे। ऐसे में प्रश्न यह है कि एसिंप्टोमेटिक युवाओं को अब आसानी से फिटनेस सर्टिफिकेट मिल सकता है और वह भर्ती रैली में जाकर अन्य अभ्यर्थियों और सैन्य अधिकारियों के लिए भी बड़ा खतरा बन सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है