×

इस देश में बच्चे पैदा करने का नहीं दंपतियों को शौक, बच्चों से ज्यादा Pets की हो रही रजिस्ट्रेशन

इस देश में बच्चे पैदा करने का नहीं दंपतियों को शौक, बच्चों से ज्यादा Pets की हो रही रजिस्ट्रेशन

- Advertisement -

भारत में किस तेजी के साथ आबाद बढ़ रही है आप अच्छे से जानते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक देश ऐसा भी है जहां पैदा होने वाले बच्चों से ज्यादा पालतू जानवरों की रजिस्ट्रेशन हो रही है। जी हां, यह देश है जापान। जापान उन देशों में शुमार है जहां की आबादी का एक बड़ा तबका बूढ़ा है। ऐसे में जन्मदर (Birth Rate) कम होने के बीच लोग अब कुत्ते-बिल्लियां पाल रहे हैं यानि जापान (Japan) में बच्चों से ज्यादा पालतू जानवरों (Pets) की रजिस्ट्रेशन हो रही है। इसके बारे में जनवरी में गोल्डमैन सैशे (Goldman Sachs) ने पता लगाया था। यहां कंपनी ने गौर किया तो पता चला कि जापान में बच्चों की जगह अब पालतू जानवर (Pets) ले चुके हैं। बिजनेस इनसाइडर में कंपनी की इस रिपोर्ट का हवाला दिया गया है कि कैसे जापान में जानवर बच्चों को रिप्लेस कर रहे हैं।


इस रिपोर्ट के मुताबिक 2014 में जापान में 15 साल के लगभग 16.5 मिलियन बच्चे थे, जबकि पालतू पशुओं कुत्ते-बिल्लियों की संख्या 21.3 मिलियन थी। कहा गया कि जापान में अब पालतू जानवर बच्चों की जगह लेते जा रहे हैं और दंपतियों में भी संतान पैदा करने की रुचि भी कम हुई है। रोचक बात यह है कि जापान में अगर कोई किसी जानवर को पालता (Pets) है तो उस जानवर का मालिक उसे विदेश (Travel) यात्रा पर ले जाता है। आपको बता दें कि जापान में पालतू जानवर (Pets) की रजिस्ट्रेशन जरूरी है। बीते कुछ सालों में जापान में बच्चों से ज्यादा पालतू पशुओं (Pets) के पहचान पत्र बने हैं। दरअसल ऐसा माना जाता है कि जापानी (Japanese) लोग अपने काम के प्रति दीवाने होते हैं। जापान में कर्मचारी इतनी कम छुट्टियां (Holidays) लेते हैं कि कंपनियों ने ऐसा नियम बना दिया कि हर कर्मचारी को सालाना कम से कम 14 दिनों की छुट्टियां (Holidays) लेनी ही होगी ताकि उनकी मेंटल हेल्थ दुरूस्त रहे।

यह भी पढ़ें: बंद आंखों से भी चुटकियों में Rubik Cube सुलझा लेता है ये लड़का, सचिन तेंदुलकर भी हुए फैन

ऐसा भी माना जाता है कि जापान (Japan) में काम के प्रति पुरुषों-महिलाओं में दीवानगी बराबर है। इसी वजह से दंपति संतान की जिम्मेदारी नहीं उठाना चाहता। यही नहीं, जापान में लोग पालतू जानवर की देखभाल भी काफी अदद से करते हैं। आपको बता दें कि विशेषज्ञों ने इस बात को लेकर चिंता जाहिर की है कि यदि जापान (Japan Population) ने जनसंख्या बढ़ाने पर ध्यान नहीं दिया तो अगले 50 सालों में जापान (Japan) की आबादी घटकर महज 80 मिलियन रह जाएगी और 100 सालों में यह आबादी (Population) इससे आधी रहकर 40 मिलियन ही रह जाएगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है