Covid-19 Update

3,08, 133
मामले (हिमाचल)
301, 551
मरीज ठीक हुए
4166
मौत
44,277,194
मामले (भारत)
596,321,667
मामले (दुनिया)

डॉक्टरों की दो घंटों की हड़ताल पड़ रही मरीजों पर भारी, ओपीडी बाहर बढ़ रही भीड़

डॉक्टर बोले- कोविड-19 अलाउंस तो दूर सैलरी भी काटी जा रही है

डॉक्टरों की दो घंटों की हड़ताल पड़ रही मरीजों पर भारी, ओपीडी बाहर बढ़ रही भीड़

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश में डॉक्टरों की हड़ताल ( strike)का आज दूसरा दिन है, सुबह के समय दो घंटे तक डाक्टर हड़ताल पर रहे हैं। प्रदेश भर में चल रही डॉक्टरों की ये हड़ताल मरीजों पर भारी पड़ रही है। सुबह के समय असप्ताल पहुंचने वाले मरीजों को दो घंटों तक इंतजार करना पड़ा। पर्ची तो बन गई लेकिन ओपीडी के बाहर मरीजों की लाइन लगी रही। प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी में शुक्रवार को मरीज ओपीडी( OPD) के बाहर खड़े रहे लेकिन कोई भी डॉक्टर उन्हें देखने नहीं आया। कई गंभीर मरीज भी ओपीडी के बाहर पर्ची लेकर खड़े रहे।

यह भी पढ़ें- डॉ राजेश बोले: सीएम जयराम बताएं शीतकालीन प्रवास पर निचले हिमाचल ना आने का कारण

प्रदेश के सभी अस्पतालों में चिकित्सक अपनी मांगों को लेकर 2 घंटे की पेन डाउन हड़ताल ( Pen down strike)कर रहे है। जिला अस्पताल रिपन में मेडिकल स्पेशलिस्ट डॉक्टर अर्जुन ने बताया कि सभी डॉक्टर कोरोना के दौरान अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। उन्हें कोविड-19 अलाउंस तो दूर की बात जो उनकी सैलरी उसे भी काटा जा रहा है, ऐसे में डॉक्टरों में काफी मायूसी है। जिस कारण उन्हें विरोध स्वरूप पेन डाउन हड़ताल करने को मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार उनकी मांग जल्दी पूरी करें, जिससे वे ओपीडी में अपने मरीजों को जांच अच्छी तरह से कर सकें।


हमीरपुर में भी पेन डाउन स्ट्राइक

डॉ राधाकृष्णन मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल हमीरपुर सहित जिला के सभी सरकारी अस्पतालों में भी चिकित्सकों ने 2 घंटे की पेन डाउन स्ट्राइक पर रहे। इस दौरान 2 घंटे तक चिकित्सक ओपीडी में नहीं बैठे जिस कारण ओपीडी के बाहर मरीजों की कतारें लगी रही। पूर्व नियोजित योजना के तहत 2 घंटे की पेन डाउन स्ट्राइक में आपातकालीन सेवाओं को जारी रखा गया । रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ आशीष शर्मा ने कहा कि 6 वेतन विसंगतियों को लेकर चिकित्सक पेन डाउन स्ट्राइक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज से 1 सप्ताह तक हर रोज 2 घंटे की हड़ताल आज भी जारी रखी है। यदि सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी तो फिर अनिश्चितकालीन हड़ताल भी शुरू की जा सकती है।

वेतन विसंगतियों को दूर करें सरकार

मंडी के लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज नेरचौक में दूसरे दिन भी दो घंटे तक डॉक्टरों ने काम नहीं किया, जबकि मरीज ओपीडी के दरवाजे पर इंतजार करते रहे। हालांकि इस दौरान आपातकालीन और कोविड सेवाएं जारी रही। जबकि अन्य सेवाएं दो घंटों तक प्रभावित रही । मेडिकल कॉलेज नेरचौक के आरडीए के अध्यक्ष डॉ विशाल ने कहा कि वेतन विसंगतियों को दूर करने की मांग पूरी न होने से चिकित्सक हड़ताल कर रहे हैं उन्होंने कहा कि डॉक्टरों को न तो पंजाब सरकार और न ही केन्द्र सरकार की तरर्ज पर पे स्केल मिल रहा है जिससे डाक्टरों में गहरा रोष है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है