Covid-19 Update

57,082
मामले (हिमाचल)
55,536
मरीज ठीक हुए
955
मौत
10,611,719
मामले (भारत)
97,309,892
मामले (दुनिया)

Farmer’s Protest : शाह-अमरिंदर की होगी मीटिंग, किसान बोले, सरकार से अलग-अलग नहीं- एक साथ मिलेंगे

किसानों ने तैयार किया है आपत्तियों का 10 पेज का डॉक्यूमेंट

Farmer’s Protest : शाह-अमरिंदर की होगी मीटिंग, किसान बोले, सरकार से अलग-अलग नहीं- एक साथ मिलेंगे

- Advertisement -

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन (Farmer’s Protest) का आज आठवां और दिन है, आज दोनों पक्षों के बीच फिर बातचीत होगी। इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab CM Captain Amarinder Singh) की मीटिंग होगी। कैप्टन कई सुझाव देंगे ताकि गतिरोध खत्म किया जा सके। इससे पहले गतिरोध खत्म करने के लिए पहली दिसंबर को सरकार ने पंजाब और यूपी के किसानों से अलग-अलग बात की थी। यह बैठक बेनतीजा रही थी। अबकी मर्तबा किसानों ने फैसला लिया कि सरकार से अब अलग-अलग नहीं, एक साथ मीटिंग करेंगे। आंदोलन में सबसे ज्यादा पंजाब के किसान हैं, पंजाब के सीएम कैप्टन गतिरोध खत्म करने को अहम रोल निभा सकते हैं। आंदोलन से सबसे ज्यादा नुकसान लोगों का हो रहा। मीटिंग से जल्द बीच का रास्ता निकालने की कोशिश होगी।

यह भी पढ़ें :- #Farmer’s_Protest: किसानों की सरकार से बैठक बेनतीजा रहने के बाद, दिल्ली यात्रा करने वालों को ये पढ़ लेना चाहिए

कैप्टन बता सकते हैं कि किसान क्या चाहते हैं और केंद्र को गतिरोध खत्म करने के लिए क्या करना चाहिए। किसानों ने आपत्तियों का 10 पेज का डॉक्यूमेंट तैयार किया है। किसानों की सरकार से आज चौथी और दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर आंदोलन शुरू करने के बाद दूसरी बातचीत होगी। किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन में कहीं बाहरी लोग खलल न डाल दें, इसको लेकर किसान संगठनों में भी चिंता बनी हुई है। इसके लिए 7 सदस्यीय कमेटी बनाई गई है। सुरक्षा के लिए आसपास करीब 100 नौजवान किसान लाठियां लिए और गले में आईकार्ड डाले तैनात रहते हैं। किसी को भी अनुशासन भंग नहीं करने दिया जाता। सुबह स्टेज की कार्रवाई शुरू होते ही नौजवान वॉलंटियर्स को पहरे पर लगा दिया जाता है, जो यह तय करते हैं कि स्टेज या आसपास कोई गलत तत्व या हुडदंगबाज ना पहुंच पाए। स्टेज पर किसी के लिए कोई कुर्सी नहीं रखी गई। किसे स्टेज पर बोलना है, कितना समय बोलना है, यह भी ज्वाइंट कमेटी तय करती है। बाहर से आए धार्मिक और सामाजिक संस्थाओं के नुमाइंदों या कलाकारों को स्टेज पर बोलने का फैसला भी कमेटी करती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है