Covid-19 Update

57,257
मामले (हिमाचल)
55,919
मरीज ठीक हुए
961
मौत
10,689,202
मामले (भारत)
100,486,817
मामले (दुनिया)

स्वतंत्रता दिवस 2020: हिमाचल की तीर्थन घाटी के स्वतंत्रता सेनानी स्व.मनीराम चौधरी किए याद

स्वतंत्रता दिवस 2020: हिमाचल की तीर्थन घाटी के स्वतंत्रता सेनानी स्व.मनीराम चौधरी किए याद

- Advertisement -

हिमाचल प्रदेश वीर योद्धाओं की धरती रही है। इस पहाड़ी प्रदेश के कई वीर सपूतों ने भारत वर्ष को आजाद करने के लिए लड़ाइयां लड़ी और कई वीरों ने इस देश  लिए बलिदान भी दिए हैं। इतिहास गवाह है कि छोटे से पहाड़ी क्षेत्र हिमाचल के जिला कुल्लू के लोगों ने भी स्वतंत्रता संग्राम में अपनी अहम भूमिका निभाई है। पर्वतों की यह धरा वीर योद्धाओं और स्वतंत्रता सेनानियों की जन्म स्थली रही है। यहां के लोगों ने शुरू से ही आजादी की लड़ाई में बराबर की हिस्सेदारी निभाई है। प्रदेश के अन्य हिस्सों की भान्ति जिला कुल्लू के दूरस्थ क्षेत्र बंजार की तीर्थन घाटी भी इससे अछूती नहीं रही है। यहां के बाशिंदो को इस बात का गर्व है कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में इस घाटी के लोगों की भी बराबर की हिस्सेदारी रही है।

ये भी पढ़ेः Kangra: सरकारी सहायता के इंतजार में आजाद हिंद फौज के सिपाही का परिवार

जिला कुल्लू उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी के गांव देहुरी डाकघर कलवारी कोठी पलाहच में छह अप्रैल, 1924 को बरु राम के घर जन्मे स्वतंत्रता सेनानी स्व.मनीराम चौधरी (Freedom fighter late Maniram Chaudhary) को स्वतंत्रता संग्राम में दिए गए उनके योगदान के लिए आज भी याद किया जाता है। उन्होंने अपने यौवन काल में ही अपने सहयोगियों के साथ देश के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से भाग लिया था और तब तक नहीं रुके जब तक देश आजाद नहीं हुआ था। इन्होंने एंग्लो मिडल तक की शिक्षा हासिल की थी। 15 फरवरीए 1942 को वह आजाद हिन्द फौज में भर्ती हो गए थे। इन्होंने बतौर प्लाटून कमांडर पद तक अपनी सेवाओं और कर्तव्यों का बाखूवी निर्वहन किया है।

देश में आजादी की लड़ाई के दौरान इन्होंने कई बार अपने सहयोगियों से मिलकर अंग्रेजी हुकूमत से टक्कर ली जिस कारण कई बार उन्हें जेल में भी रहना पड़ा। इसी दौरान उन्हें नौ माह तक रंगून तथा वर्मा की जेलों में भी कैदी बना कर रखा गया। यहां से छुटकारा मिलने के बाद वे तीन माह तक जिगरकच्छ व कलकत्ता की जेलों में भी बन्दी रहे। उन्हें 17 जनवरी,1946 को जेल से रिहा किया गया था। आजादी के बाद उन्होंने अपने घर परिवार के साथ ही अपना खुशहाल पारिवारिक जीवन जिया और वर्ष 2004 में उनका निधन हो गया।

भारतवर्ष और हिमाचल के ऐसे असंख्य वीर सपूतों के संघर्ष और बलिदान की वजह से ही देशवासी 15 अगस्त को आजादी के जश्न के रूप में मनाते हैं। जिन्होंने भारत मां को गुलामी की बेड़ियों से आजाद करवाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है। तीर्थन घाटी के लोगों को भी इस बात का गर्व है कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में यहां के लोगों की भी बराबर की हिस्सेदारी रही है ।

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार से परस राम भारती की रिपोर्ट

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है