Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

हिमाचलः ब्लैक फंगस के 18 मामले, चार की मृत्यु-किस जिले से कितने-जाने

कोविड-19 एसोसिएटिड म्यूकोर्मिकोसिस के उपचार को एडवाइजरी जारी

हिमाचलः ब्लैक फंगस के 18 मामले, चार की मृत्यु-किस जिले से कितने-जाने

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल (Himachal) में अब तक ब्लैक फंगस (Black Fungus) या म्यूकोर्मिकोसिस के 18 मामले सामने आए हैं। इनमें कांगड़ा जिला में सात, हमीरपुर में 6, सोलन व शिमला में दो-दो और मंडी में एक मामला आया है। इनमें से 4 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के प्रवक्ता ने आज यहां कहा कि भारत सरकार द्वारा कोविड-19 एसोसिएटिड म्यूकोर्मिकोसिस (सीएएम) के उपचार व प्रबंधन और इससे संबंधित अन्य विषयों पर एडवाइजरी (Advisory) जारी की है, जिसे प्रदेश के सभी जिलों को भेजा गया है।

यह भी पढ़ें: HP Corona: 601 केस और 1,155 ठीक, आज जांच को आए रिकॉर्ड सैंपल

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के लिए गठित राष्ट्रीय कार्य बल (नेशनल टास्क फोर्स) ने कोविड-19 एसोसिएटेड म्यूकोर्मिकोसिस (सीएएम) के उपचार की समीक्षा कर, उपचार के संबंध में विभिन्न उपचार विकल्पों की सिफारिश की हैं। टास्क फोर्स एम्फोटेरिसिन बी के अनुसार, एम्फोटेरिसिन लिपिड कॉम्प्लेक्स, लिपोसोमल और एम्फोटेरिसिन बी डीऑक्सीकोलेट दोनों ही रूपों में सीएएम मामलों के उपचार के लिए समान रूप से प्रभावकारी है। उन्होंने कहा कि एम्फोटेरिसिन बी डीऑक्सीकोलेट किडनी के लिए अधिक विषाक्त है इसलिए इसके प्रयोग के समय किडनी के कार्य की निगरानी और इलेक्ट्रोलाइट अंसतुलन की निगरानी की जानी चाहिए। लिपोसोमल एम्फोटेरिसिन बी को उन रोगियों में प्राथमिकता दी जानी चाहिए, जिनके मस्तिष्क में म्यूकोर्मिकोसिस है या उन रोगियों में जो एम्फोटेरिसिन बी डीओक्सीकोलेट को सहन नहीं कर सकते हैं। संयुक्त टास्क फोर्स (Joint Task Force) ने यह भी सिफारिश की है कि एम्फोटेरिसिन बी उपलब्ध नहीं होने के मामलों में या एम्फोटेरिसिन बी सहन नहीं कर पाने वाले रोगियों में पोसाकोनाजोल इंजेक्शन का उपयोग किया जा सकता है।


यह भी पढ़ें: हिमाचल में युवाओं की वैक्सीनेशन का शेड्यूल जल्द होगा जारी, मिली 49,350 खुराके

उन्होंने कहा कि घर में भी एक स्वच्छ मास्क (Mask) का उपयोग, स्टेरॉयड के उपयोग की उचित खुराक और अवधि, कोविड-19 (Covid-19) के रोगियों में शुगर का पर्याप्त नियंत्रण सीएएम के मामलों को कम कर सकता है। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की बहु-विषयक टीम द्वारा इस बीमारी का शीघ्र निदान और उचित प्रबंधन भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि लोगों को सीएएम के लक्षणों के बारे में पता होना चाहिए और जरूरत पड़ने पर नेत्र विशेषज्ञ, कान, नाक, गले के विशेषज्ञ, न्यूरो सर्जन और दंत चिकित्सकों के साथ कोविड-19 से स्वस्थ होने के उपरांत परामर्श लिया जाना चाहिए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है