Covid-19 Update

57,296
मामले (हिमाचल)
55,987
मरीज ठीक हुए
962
मौत
10,698,674
मामले (भारत)
101,058,488
मामले (दुनिया)

बढ़ते आत्महत्या मामलों को लेकर High Court ने प्रदेश सरकार को दिए यह आदेश

बढ़ते आत्महत्या मामलों को लेकर High Court ने प्रदेश सरकार को दिए यह आदेश

- Advertisement -

शिमला। हाईकोर्ट (High Court) ने राज्य सरकार को तीन सप्ताह के भीतर आत्महत्या निरोधक हेल्पलाइन नंबर को सक्रिय करने के आदेश दिए। कोर्ट ने उक्त हेल्पलाइन नंबर के प्रचार के लिए अपने सरकारी संचार साधनों सहित विज्ञापन के माध्यम से सभी अंग्रेजी व हिंदी अखबारों में प्रकाशित करने के आदेश भी दिए। न्यायाधीश सुरेश्वर ठाकुर व न्यायाधीश सीबी बारोवालिया की खंडपीठ ने कोविड महामारी के कारण लगे लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बढ़ती संख्या में आत्महत्या (Suicide) के मामलों को रोकने के लिए जरूरी व कारगर कदम उठाने की मांग को लेकर दायर याचिका की सुनवाई के पश्चात यह आदेश दिए।भारतीय विद्यापीठ पुणे से पढ़ रहे लॉ स्टूडेंट तुषार ने याचिका के माध्यम से कोर्ट को बताया कि कोविड-19 (COVID-19) महामारी के दौरान बहुत सारे लोग आत्महत्याएं कर रहे हैं और ऐसा लगता है कि सरकार उसी की रोकथाम में असहाय है। याचिकाकर्ता ने गुहार लगाई है कि प्रदेश में मानसिक स्वास्थ्य सेवा अधिनियम, 2017 को अक्षरशः लागू करवाया जाए। इस अधिनियम के तहत मानसिक स्वास्थ्य और आत्महत्या की रोकथाम से संबंधित विभिन्न प्रावधान हैं।

यह भी पढ़ें: शहादत के 21 वर्ष बाद शहीद Major Sudhir Walia की प्रतिमा स्थापित

अधिनियम की धारा 18 मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य देखभाल के अधिकार से संबंधित है और धारा 45 राज्य मानसिक प्राधिकरण की स्थापना के लिए प्रदान करती है और धारा 29 उचित सरकार के कर्तव्यों से संबंधित है। धारा 29 (2) विशेष रूप से देश में आत्महत्या और आत्महत्या के प्रयास को कम करने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों की योजना, डिजाइन और कार्यान्वित करने के लिए उपयुक्त सरकार के कर्तव्य के बारे में बोलती है। संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों की विभिन्न रिपोर्टें भी हैं जो मानसिक स्वास्थ्य सेवा (Mental Health Service) से संबंधित हैं। अधिनियम की धारा 121 के तहत परिकल्पित नियमों को राज्य द्वारा निर्धारित किया जा सकता है और अन्य कर्तव्यों का पालन भी किया जा सकता है। याचिकाकर्ता की यह दलील थी कि मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम के तहत प्रावधानों को यदि अक्षरशः लागू किया जाता है तो आत्महत्याओं की संख्या पर अंकुश लगाया जा सकता है। कोर्ट ने सरकार को 6 सप्ताह के भीतर याचिका का जवाब देने के आदेश दिए। मामले पर अगली सुनवाई 15 अक्टूबर को होगी।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है