Covid-19 Update

2,21,203
मामले (हिमाचल)
2,16,124
मरीज ठीक हुए
3,701
मौत
34,043,758
मामले (भारत)
240,610,733
मामले (दुनिया)

जानिए आयुर्वेद के अनुसार खाना खाते समय कितना बड़ा होना चाहिए रोटी के टुकड़ा

एक कोर को कम से कम 32 बार चबाकर खाना जरूरी, यही है कई बीमारियों का इलाज

जानिए आयुर्वेद के अनुसार खाना खाते समय कितना बड़ा होना चाहिए रोटी के टुकड़ा

- Advertisement -

शरीर में फैट बढ़ने के कई कारण होते हैं। आप एक्सरसाइज भी कर रहे हैं और अच्छी डाइट (Good diet) भी ले रहे हैं तब भी कई बार फर्क कम देखने को मिलता है। कई बार ऐसी कुछ छोटी-छोटी चीजें होती हैं जिन पर हम ध्यान नहीं देते और वही मोटापे का कारण होती हैं। खाना खाते समय अक्सर लोगों के मन में यह सवाल आता है कि रोटी के कोर का सही आकार कितना होना चाहिए। क्योंकि डॉक्टर्स अक्सर कहते हैं कि खाना खाते समय रोटी के टुकड़ों का आकार छोटा रखें और एक कोर को कम से कम 32 बार चबाकर खाएं। ऐसे में आप भी जरूर जानना चाहते होंगे कि जिस तरह भोजन को 32 बार चबाने की गिनती पक्की है क्या उसी तरह रोटी के टुकड़े का सही साइज (Right size) भी निर्धारित है।

यह भी पढ़ें रेसिपी : इस दिवाली को बनाएं जायकेदार, घर पर बनाएं ये मिठाइयां

आयुर्वेद (Ayurveda) एक प्राकृतिक चिकित्सा विज्ञान होने के साथ ही जीवन को सही तरीके से जीने की पद्धति भी है। मेडिकल ट्रीटमेंट की इस पैथी के अनुसार, भोजन करते समय रोटी खाने के लिए आप जो टुकड़ा तोड़ें उसका सही आकार नापने के लिए आप अपने हाथ के अंगूठे के नाखून का सहारा ले सकते हैं। जी हां, आयुर्वेदिक चिकित्सक और हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार आपकी रोटी के कोर का साइज आपके हाथ के अंगूठे के नाखून के बराबर होना चाहिए। रोटी के कोर का इतना छोटा साइज जानकर आप हैरान हो सकते हैं, लेकिन आयुर्वेद के अनुसार, खाना खाते समय रोटी का कोर बहुत ही छोटा होना चाहिए साथ ही अच्छे पाचन के लिए इस कोर को 32 बार चबाकर खाना चाहिए। ऐसा करने से मुंह में ही रोटी का रस अच्छी तरह बन जाता है। इससे आंतों में पहुंचने के बाद रोटी और सब्जी का पूरा सत्व शरीर को प्राप्त होता है।

इससे शरीर को भोजन का पूरा पोषण प्राप्त होता है। लिवर स्वस्थ रहता है और अच्छी तरह चाबाया गया यह भोजन आंतों में पूरी तरह अवशोषित हो जाता है। इससे आपकी सेहत (Health) अच्छी बनती है। जिन लोगों का पेट अक्सर खराब रहता है और जिन्हें कब्ज की समस्या रहती है, उन्हें इस तरह भोजन चबाकर खाने से विशेष लाभ मिलता है। इसके साथ ही जिन लोगों को अपच की समस्या रहती है, जब वे इस तरह एक कोर को 32 बार चबाकर खाते हैं तो उन्हें अपच, गैस और बदहजमी से छुटकारा मिलता है। आपकी डायट और आपके वजन में सीधा संबंध होता है। यदि आप तेजी से बढ़ते वजन के कारण परेशान हैं तो आपको भोजन करने का यह तरीका अवश्य अपनाना चाहिए। क्योंकि छोटे कोर को देर तक चबाकर खाने से आपकी भूख प्राकृतिक तरीके से शांत होती है। यदि आप सामान्य रूप से एक समय के भोजन में तीन रोटी खाते हैं तो इस तरह भोजन करने के दौरान आप एक या डेढ़ रोटी खाएंगे। लेकिन आपके शरीर को इस भोजन का पूरा पोषण मिलेगा यानी आप खाना कम खाएंगे लेकिन आपके शरीर में कमजोरी नहीं आएगी और सीमित मात्रा में भोजन के चलते आपके शरीर में अतिरिक्त वसा का जमाव नहीं होगा, जिससे आपका वजन नियंत्रित रहेगा।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है