Covid-19 Update

3,12, 100
मामले (हिमाचल)
3, 07, 697
मरीज ठीक हुए
4188
मौत
44, 563, 337
मामले (भारत)
619, 874, 061
मामले (दुनिया)

यहां बंदरों के लिए किया जाता है बुफे का आयोजन, 2.25 लाख रुपए तक का आता है खर्च

थाईलैंड के लोपबरी प्रांत में मंकी बुफे फेस्टिवल का आयोजन किया जाता है

यहां बंदरों के लिए किया जाता है बुफे का आयोजन, 2.25 लाख रुपए तक का आता है खर्च

- Advertisement -

नई दिल्ली। थाईलैंड एक प्रांत में इन में इन दिनों खास उत्सव मनाया जा रहा है। जिसे लोग मंकी बफे कहते हैं। बताया जाता है कि यह फेस्टिवल पूरी तरह से बंदरों के लिए समर्पित हैं। दुनिया भर से सैलानी थाईलैंड के लोपबरी प्रांत में इस मेले को देखने के लिए आते हैं। हालांकि, पिछले दो सालों से कोरोना महामारी के कारण इस पर रोक लगा दी गई थी, जिसे अब वापस शुरू कर दिया गया है।

इस फेस्टिवल में हर साल बंदरों को लाखों रुपये की फल और सब्‍जियां परोसी जाती हैं। इस साल बंदरों को करीब 2 टन फल-सब्जियां खाने को दी गईं। दरअसल, लोपबरी प्रांत में यह पर्यटकों को लुभाने के लिए यह त्यौहार मनाया जाता है। सैलानियों को आकर्षित करने और बंदरों को धन्यवाद अदा करने के लिए मंकी बफे फेस्टिवल सेलिब्रेट किया जाता है। इस साल बंदरों की पार्टी में करीब 2.25 लाख रुपए का खर्च आया है।

यह भी पढ़ें:लव चेयर नामक मशहूर कुर्सी का जाने क्या है इतिहास, पढ़ें पूरी खबर

मंकी बुफे फेस्टिवल में बंदरों को खाने में सेब, केला, ड्यूरियन और अनानास जैसे फल खाने को दिए जाते हैं। खाने का सामान रखते ही बंदरों की भीड़ लग जाती है। बंदरों को खाना बेहद सम्‍मान के साथ दिया जाता है। इनके लिए प्लेट में खाने को व्यवस्थित करके रखा जाता है। खास बात है कि बंदर यहां मौजूद किसी पर्यटक को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। इसे देखने के लिए सैकड़ों टूरिस्‍ट यहां पहुंचते हैं।

बता दें कि मंकी बफे फेस्टिवल के लिए लोपबरी के फ्रा प्रेंग सैम योद मंद‍िर के बाहर बंदर इकट्ठा होते हैं। यही इनके लिए खास पार्टी का आयोजन किया जाता है। इस साल बंदरों के लिए खासतौर ड्यूरियन फल का भी इंतजाम किया गया था। कटहल की तरह दिखने वाले ड्यूरियन फल की थाईलैंड और इंडोनेशिया में काफी पैदावार होती है। इसे बंदर बेहद चाव से खाते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है