Covid-19 Update

2,16,639
मामले (हिमाचल)
2,11,412
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,392,486
मामले (भारत)
228,078,110
मामले (दुनिया)

टोक्यो ओलंपिक : नीरज चोपड़ा जैवलीन थ्रो के फाइनल में पहुंचे, रेसलर दीपक पूनिया व रवि दहिया सेमीफाइनल में

भारत के पास आज चार सिल्वर मेडल पक्का करने का मौका

टोक्यो ओलंपिक : नीरज चोपड़ा जैवलीन थ्रो के फाइनल में पहुंचे, रेसलर दीपक पूनिया व रवि दहिया सेमीफाइनल में

- Advertisement -

भारत के स्टार जेवलिन थ्रोअर खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने बुधवार को टोक्यो ओलंपिक के फाइनल के लिए क्वालीफाई कर भारत की पदक की उम्मीदें बढ़ा दी हैं। ओलंपिक स्टेडियम में, जूनियर विश्व चैंपियन, 23 वर्षीय चोपड़ा ने ग्रुप ए में 86.65 मीटर के अपने पहले प्रयास के साथ 83.50 मीटर के ऑटोमेटिक क्वालीफाइंग अंक को हासिल किया और फाइनल में पदक के प्रबल दावेदार के रूप में उभरे।इ सके बाद रेसलिंग में युवा स्टार दीपक पूनिया और रवि दहिया ने सेमीफाइनल में जगह बना ली। दोनों ही पहलवान अब मेडल से एक जीत दूर है। इन दोनों के अलावा आज भारत की स्टार बॉक्सर लवलीना बोरहोगेन भी अपने सेमीफाइनल मुकाबले में हिस्सा लेंगी जो उनके मेडल का रंग तय करेगा। लवलीना के अलावा महिला टीम से फैंस से फाइनल में पहुंचने की आस लगाए बैठे हैं। भारत के पास आज चार सिल्वर मेडल पक्का करने का मौका है।

यह भी पढ़ें:  भारत में टेस्ला के लिए इंतजार हुआ लंबा, उच्च आयात शुल्क को लेकर विवाद

शनिवार को होने वाले फाइनल में सभी की निगाहें चोपड़ा पर होंगी क्योंकि वह इस सीजन में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और राष्ट्रीय रिकॉर्ड – 88.07 मीटर – के ओनर हैं, जिसे उन्होंने मार्च में इंडियन ग्रांड प्री में हासिल किया था।भारत के अन्य जेवलिन थ्रोअर खिलाड़ी शिवपाल सिंह ने अपने पहले प्रयास में अपना सर्वश्रेष्ठ 76.40 प्राप्त किया और क्वालीफाई करने में असफल रहे। उनके अन्य दो प्रयास क्रमश: 74.80 और 74.81 मीटर के थे।चोपड़ा ने मार्च में इंडियन ग्रांड प्री में 88.07 मीटर के नए राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ अपने सीजन की शुरूआत की थी और इसके बाद फेडरेशन कप में 87.80 मीटर थ्रो के साथ एक और सराहनीय प्रदर्शन किया।

तेजिंदरपाल सिंह तूर चूके

भारत के गोला फेंक (शॉटपुट) एथलीट तेजिंदरपाल सिंह तूर यहां चल रहे टोक्यो ओलंपिक में ग्रुप ए क्वालीफाईंग राउंड में 19.99 मीटर के थ्रो के साथ 13वें स्थान पर रहे। इसके साथ ही वह फाइनल में जगह नहीं बना सके। क्वालीफिकेशन राउंड में फाइनल में पहुंचने के लिए ऑटोमेटिक क्वालीफिकेशन मार्क 21.20 मीटर था जिसका मतलब यह है कि जो एथलीट 21.20 मीटर का थ्रो करेगा वो सीधे तौर पर फाइनल में जगह बना लेगा। लेकिन तेजिंदर तीनों प्रयास में क्वालीफिकेशन मार्क को हासिल नहीं कर सके और फाइनल की रेस से बाहर हो गए।

-आईएएनएस

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है