Covid-19 Update

2, 85, 014
मामले (हिमाचल)
2, 80, 820
मरीज ठीक हुए
4117*
मौत
43,140,068
मामले (भारत)
528,504,980
मामले (दुनिया)

J&K-लद्दाख और हरियाणा ने कब्जाई हिमाचल की जमीन, विधानसभा में उठा मुद्दा

चंबा के सलूणी में नौ किलोमीटर बना डाली सड़क, गृह मंत्रालय से उठाया जाएगा मसला

J&K-लद्दाख और हरियाणा ने कब्जाई हिमाचल की जमीन, विधानसभा में उठा मुद्दा

- Advertisement -

शिमला। जम्मू-कश्मीर ने 9 किलोमीटर सड़क हिमाचल के चंबा जिला में बना ली है। जम्मू.कश्मीर ने 16954.08.00 बीघा जमीन मोहाल ठेका धार पादरी में कब्जा ली है। सड़क बनाने के साथ साथ वहां अन्य ढांचा व पुलिस चौकी खड़ी कर दी है। सरकार मामले को नार्थ ज़ोन काउंसिल में उठाया जाएगा। इसके अलावा लाहुल व परवाणू में भी हिमाचल सीमा विवाद है। ये जबाब विधानसभा में आशा कुमारी के प्रश्न के जवाब में राजस्व मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने दिया। महेंद्र सिंह ने बताया कि दोनों प्रदेशों के संबंधित डीसी के सामने निशानदेही भी हो चुकी है, जो कि हिमाचल के हक़ में है। बाबजूद इसके जम्मू कश्मीर समस्या खड़ी कर रहा है। इसके अलावा लद्दाख और हरियाणा की सरकारों ने भी हिमाचल प्रदेश की जमीनों पर कब्जे किए हैं, इन्हें हटाने के प्रयास किए जा रहे हैं। इस मामले को गृह मंत्रालय और उत्तरी क्षेत्र परिषद के पास उठाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- शिमला में JOA IT (817) के अभ्यर्थियों ने किया प्रदर्शन, सरकार ने दिया यह आश्वासन

हिमाचल के पास शजर-ततीमा आदि सारी चीजें

जम्मू-कश्मीर के साथ चंबा के सलूणी में 10 दिसंबर 2021 में संयुक्त डिमार्केशन हुई है। वे अपना कब्जा बता रहे थे, लेकिन उनके पास ततीमा, शजरा आदि कुछ नहीं था। हिमाचल प्रदेश के पास शजरा, ततीमा आदि सारी चीजें हैं। सलूणी में उन्होंने आगे बढ़कर साढ़े नौ किलोमीटर सड़क बनाई है। आधारभूत ढांचा भी खड़ा किया है। इस मामले को गंभीरता से लिया गया है। इस बारे में गृह मंत्रालय और नॉर्थ जोन इंटर स्टेट काउंसिल में मामला उठाया जा रहा है। ठाकुर ने कहा कि लाहुल में भी सरचू क्षेत्र में लद्दाख की ओर से कब्जे हुए हैं। परवाणू के साथ भी हरियाणा के साथ जमीनी विवाद है।

कम से कम रिक्लेम करना चाहिए

इसके बारे में सरकार गंभीर है। इस मामले को नॉर्थ जोन काउंसिल में ले जाकर उठाया जाएगा। किसी को भी अपनी जमीन पर कब्जा नहीं करने दिया जाएगा। विधायक आशा कुमारी ने कहा कि जब संयुक्त पैमाइश हो गई हैए तो स्थिति साफ हो गई है। वे भी संयुक्त डिमार्केशन में सहमत हैं। आशा कुमारी ने कहा कि जो बुर्जियां पुरानी लगी थींए उन्हें तो हटा लेना चाहिए। खाली जमीन को कम से कम रिक्लेम करना चाहिए।

महेंद्र सिंह बोले, राजस्व रिकॉर्ड हमारे पास

वन भूमि के कागजात नहीं हैं तो उसकी बात अलग है। इस पर महेंद्र सिंह बोले कि राजस्व रिकॉर्ड हमारे पास है। उसके मुताबिक हिमाचल सरकार ऐसा भी नहीं करना चाहती है कि बीच में कोई झगड़ा हो। उन्हें कहा जाएगा कि जहां कब्जा हैए उसे हटा लिया जाए। आशा कुमारी ने सवाल किया था कि क्या जम्मू.कश्मीर सरकार ने हिमाचल प्रदेश की जमीन पर कब्जा किया है। यह अतिक्रमण सलूणी के कुंडी.मोराल सीमा पर है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है