Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

कोरोना काल में 50 साल बाद मिली दो बहनें, जानिए कैसे हुआ ये करिश्मा

कोरोना काल में 50 साल बाद मिली दो बहनें, जानिए कैसे हुआ ये करिश्मा

- Advertisement -

कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूर दुनिया में कहर मचा रखा है। ऐसे तो कोरोना महामारी पूरी दुनिया के लिए अभिशाप बनी हुई है वहीं कई लोगों के लिए यह वरदान साबित हुई है। हाल ही में सोशल मीडिया (Social Media) पर एक 73 वर्षीय महिला नेब्रास्का की स्टोरी काफी वायरल (Viral) हो रही है। यह स्टोरी इसलिए भी खास है क्योंकि कोरोना महामारी के बीच एक बहन को अपनी बिछड़ी हुई छोटी बहन मिल गई। कोरोना संकट में डोरिस क्रिप्पन (Doris Crippen) अपनी छोटी बहन बेव बोरो (Bev Boro) से 50 साल एक-दूसरे से मिलीं।

ये भी पढे़ं – बारिश में फिसला पैर, चौथी मंजिल से गिरा और Grill में अटका पैर, जानिए कैसे छू कर निकली मौत

 

1967 में अकेला छोड़कर चले गए थे पिता

53 साल की बेव बोरो, फ्रेमोंट में मेथोडिस्ट हेल्थ के डंकलाऊ गार्डन में काम करती हैं और कुदरत का ऐसा करिश्मा हुआ है कि उनकी बड़ी बहन (क्रिप्पन) को हाथ टूटने की वजह से उसी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी छोटी बहन बेव बोरो काम करती थी। जब बोरो ने वार्ड के बाहर मरीज की लिस्ट में अपनी बहन का नाम देखा तो पहचान गई कि यही मेरी बड़ी बहन है। उसने बताया कि मैंने जैसे ही नाम देखा मेरे आश्चर्य का ठीकाना नहीं रहा फिर मैंने अपनी दोस्त को कहा कि मुझे लग रहा ये मेरी बहन (Sister) ही है। बड़ी बहन क्रिप्पन ने अपनी पूरी कहनी बताते हुए कहती हैं कि 1967 में जब मेरे पिता हमें अकेला छोड़कर चले गए तो पिता के साथ मेरी छोटी बहन भी चली गई थी। उस वक्त बेव बोरो सिर्फ 6 महीने की थी। क्रिप्पन ने कहा, “जब मैंने उसे देखा था तब वह एक बच्ची थी। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं उससे वापस मिल पाउंगी। दोनों बहनें एक दूसरे से अस्पताल में मिलकर इतनी खुशी थी जिस बात का अंदाजा कोई नहीं लगा सकता है। बोरो ने अपनी बड़ी बहन क्रिप्पन से बात करने के लिए व्हाइटबोर्ड का सहारा लिया क्योंकि वह ठीक से सुन नहीं पाती है इसकी वजह से व्हाइट बोर्ड के जरिए वह उनसे बात करती हैं।

 

 

बोरो बताती है कि मैं व्हाइट बोर्ड (White board) लेकर गई और मैंने क्रिप्पन से पूछा क्या तुम्हारे पिता का नाम वेंडल हफमैन हैं? वह मेरे डैडी है। फिर मैंने इशारा किया और कहा वह मेरे भी पिता है। उन्होंने कहा, ‘मैं तुम्हारी बहन हूं, बेव’। यह सुनते ही मैं लगभग कुर्सी से गिर गई, मैं रोने लगी। मुझे अपनी बहन से मिलकर एक अलग ही तरह की खुशी का एहसास हो रहा था। क्रिप्पन ने अपनी बहन से मिलने के बाद कहा, “जब मैंने उसे देखा था, तब वह एक छोटी सी बच्ची थी। आज वह 53 साल की हो गई है। दोनों बहनों ने बताया कि वह कई सालों तक एक दूसरे को ढूंढ़ती रही लेकिन उन्हें अपनी बहन नहीं मिली, अचानक से इस तरह से बहन का मिलना किसी करिश्मे से कम नहीं हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है