Covid-19 Update

2,16,430
मामले (हिमाचल)
2,11,215
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,380,438
मामले (भारत)
227,512,079
मामले (दुनिया)

Uttarakhand: 70 साल से विलुप्त मानी जा रही उड़न गिलहरी जंगलों में दिखी; होगा संरक्षण

Uttarakhand: 70 साल से विलुप्त मानी जा रही उड़न गिलहरी जंगलों में दिखी; होगा संरक्षण

- Advertisement -

देहरादून। पहाड़ी राज्य उत्तराखंड (Uttarakhand) स्थित उत्तरकाशी के जंगलों में करीब 70 साल पहले विलुप्त मान ली गई उड़ने वाली दुर्लभ गिलहरी (Squirrel) यानी कि ‘उड़न गिलहरी’ देखी गई है। यह गिलहरी इसलिए भी खास है क्योंकि यह उड़ सकती है। इसलिए इसका नाम उड़न गिलहरी है। इसका शरीर ऊन की तरह झब्बेदार होता है। इसे ऊनी उड़न गिलहरी भी कहा जाता है। उत्तराखंड वन अनुसंधान केंद्र के सर्वेक्षण में प्रदेश के 13 फारेस्ट डिवीजनों में से 18 जगहों पर यह गिलहरी देखी गई है। इस ऊनी उड़न गिलहरी को हाल ही में गंगोत्री नेशनल पार्क में रिसर्च विभाग के जरिए देखा गया है।

एक बार में 40 फुट तक उड़ सकती हैं यह गिलहरी

इस खास और दुर्लभ गिलहरी की कई प्रजातियां होती हैं और उत्तराखंड में ऐसी 4 प्रजातियां नजर आई हैं। कुछ प्रजातियां उत्तराखंड में पहली बार नजर आई हैं तो कुछ प्रजातियां लगभग 4 दशक के बाद दिखाई पड़ी हैं। देहरादून वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट के साइटिंस्ट ने भागीरथ घाटी में इसके होने की बात कही है और इसके दुर्लभ फोटो भी मिले हैं। यह गिलहरी ज्यादातर ओक, देवदार और शीशम के पेड़ों पर अपने घोंसले बनाती हैं। इन उड़न गिलहरियों के अगले और पिछले पंजों के बीच में एक झिल्ली होती है जो एक पैराशूट की तरह खुल जाती है, जब यह गिलहरियां एक जगह से दूसरी जगह तक कूदने की कोशिश करती हैं। इस वजह से यह अधिकतम एक बार में 40 फुट तक उड़ सकती हैं।

यह भी पढ़ें: गगल थाने में 21 सांपों को पकड़ने वाले नाजर सिंह को सांप ने डसा, Tanda में भर्ती

संरक्षण हेतु एक विशेष प्रोजेक्ट शुरू किया गया

कोटद्वार के लैंसडोन में 30-50 सेंटीमीटर लंबी उड़न गिलहरी भी देखी गई है। गले पर धारी होने के कारण स्थानीय लोग पट्टा बाघ भी इनको कहते हैं। पूरे भारत में उड़न गिलहरियों की लगभग 12 प्रजातियां पाई जाती हैं। पहले इन गिलहरियां की तादात ज्यादा थी लेकिन कटते जंगल और ग्लोबल वार्मिंग के चलते इनकी तादात कम होने लगी है। अब ये वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के शेड्यूल-2 में दर्ज हैं। उत्तराखंड वन विभाग के अनुसंधान विभाग के प्रमुख संजीव चतुर्वेदी का कहना है, ‘उड़न गिलहरी एक अत्यंत दुर्लभ प्रजाति है। इसकी संख्या अत्यंत कम रह गई थी और यह अपने विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गई थी। इसलिए इसके संरक्षण हेतु एक विशेष प्रोजेक्ट शुरू किया गया था। इस दौरान यह जानकारी सामने आई है और इन विलुप्त हो रही प्रजातियों का पता लगा है। इनका उपयोग करते हुए इन्हें संरक्षित करने के लिए एक विस्तृत कार्य योजना भी तैयार की जा रही है।’

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है