Covid-19 Update

3,12, 506
मामले (हिमाचल)
3, 08, 258
मरीज ठीक हुए
4190
मौत
44, 664, 810
मामले (भारत)
639,534,084
मामले (दुनिया)

Pong Dam में पहुंचे 1,15,701 विदेशी परिंदे, बार हेडेड गीज़ की संख्या बढ़ी

Pong Dam में पहुंचे 1,15,701 विदेशी परिंदे, बार हेडेड गीज़ की संख्या बढ़ी

- Advertisement -

धर्मशाला। वेटलैंड महाराणा प्रताप सागर में हर साल की तरह इस बार भी प्रवासी पक्षी पहुंच रहे हैं। पहले पक्षी सर्वेक्षण (Bird survey) में लगभग 114 विभिन्न प्रजातियों के 1,15,701 विदेशी परिंदे अभी तक की गई सामान्य गणना के अनुसार यहां पहुंच चुके हैं। बार हेडेड गीज़ की फ्लैगशिप स्पीशीज़ की संख्या में पिछले साल (2018-19) से 68% की बढ़ोतरी हुई है। इस साल कुल 49496 बार हेडेड गीज़ की तुलना में पिछले साल कुल गिनती 29,443 थी। पौंग बांध जलाशय (Pong Dam) को वन्यजीव अभयारण्य विभाग ने 26 खंडों में विभाजित किया था। इस अभ्यास में लगभग 150 कर्मचारियों ने भाग लिया। प्रत्येक टीम में एक समन्वयक, एक विशेषज्ञ और सहायक समन्वयक की अध्यक्षता में 4-6 सदस्यों की एक टीम ने गणना को अंजाम दिया।


यह भी पढें : Smart City का ये हाल, इस्तेमाल से पहले ही टूटने लगे अंडरग्राउंड डस्टबिन

पौंग झील में 114 विभिन्न प्रजातियों के 115701 पक्षियों को इस साल पौंग डैम झील में दर्ज किया गया है, जिसमें 60 प्रजातियों के 104032 प्रवासी पक्षी , 30 के 10377 जल पक्षी शामिल हैं। स्थानीय प्रजाति की 24 अन्य स्थानीय प्रजातियों के 1292 पक्षी शामिल हैं। प्रमुख प्रजातियों में बार हेडेड गीज़ (49496), उत्तरी पिंटेल (12881), यूरेशियन कोट (10860), कॉमन टील्स (7334), कॉमन पोचर्ड्स (3988), नॉर्दर्न फोवेलर (2818), ग्रेट कॉर्मोरेंट्स (2121), यूरेशियन वाइजन्स (1350) हैं। ), यूरेशियन वेजन (1350), और रुडी शेल्डकस (1028) को इस वर्ष देखा गया है। झील में दर्ज की गई अन्य असामान्य पक्षी प्रजातियां हैं कॉमन शेल्डक्स (75), नॉर्दर्न लैपविंग (32), कॉमन रिंगेड प्लोवर (20), पाइड एवोकेट्स (09), ऑस्प्रेयस (05), ब्लैक-बेल्ड टर्न (05), कॉमन मर्गेन्सर्स ( 04), सॉर्स क्रेन्स (02), यूरेशियन कर्ल्यूज़ (02), व्हाइट टेल लैपिंग्स (01), वॉटर पिपिट्स (01), लेसर व्हाइट-फ्रंटेड गूज़ (01), और बफ़-बेलिड पिपिट (01)।

कुछ प्रजातियां (Species) ग्रेट क्रेस्टेड ग्रीब्स, रेड क्रेस्टेड पोचर्ड्स, फेरुजिनस पोचर्ड्स, मॉलार्ड्स, टफ्टेड डक्स, यूरेशियन स्पूनबिल्स, कर्ल सैंडपाइपर और कई अन्य प्रजातियां हैं जिनमें लार्क्स एंड पिपिट्स हैं। पक्षियों की कुल आबादी और साथ ही पक्षियों की प्रजातियों में पिछले साल की तुलना में वृद्धि हुई है। जनसंख्या में 115229 से 115701 तक मामूली वृद्धि हुई है जहां प्रजातियां 103 से बढ़कर 114 हो गई हैं। प्रवासी जल आश्रित प्रजातियों में कोई वृद्धि नहीं हुई है, लेकिन निवासी जल निर्भर प्रजातियों में पिछले वर्ष की तुलना में 58 से 60 प्रजातियों और 29 से 30 की वृद्धि हुई है। बार हेडेड गीज़ की फ्लैगशिप स्पीशीज़ की आबादी में पिछले साल (2018-19) से 68% की बढ़ोतरी हुई है क्योंकि इस साल कुल 49496 बार हेडेड गीज़ की तुलना में पिछले साल कुल गिनती 29443 थी। इनमें से अधिकांश पक्षी तिब्बत, मध्य एशिया, रूस और साइबेरिया में ट्रांस-हिमालयी क्षेत्र में अपने प्रजनन स्थानों से निकलते हैं। पिछले कुछ वर्षों में, पोंग डैम झील भी एक रामसर स्थल है, जो प्रवासी पक्षियों की कई प्रजातियों के लिए सर्दियों के लिए एक आदर्श स्थान बन गया है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Chennel…

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है