Covid-19 Update

2,04,887
मामले (हिमाचल)
2,00,481
मरीज ठीक हुए
3,495
मौत
31,329,005
मामले (भारत)
193,701,849
मामले (दुनिया)
×

एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया बोले-स्कूल खोलने पर विचार करें, बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत

कहा-अब समय आ गया है कि स्कूलों को फिर से खोलने पर सहमत हो जाना चाहिए

एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया बोले-स्कूल खोलने पर विचार करें, बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत

- Advertisement -

नई दिल्ली। कोरोना के कारण बहुत से क्षेत्रों पर असर पड़ा। स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई भी बुरी तरह से प्रभावित रही। हालात ये हैं कि पिछले डेढ़ साल से स्कूल करीब करीब बंद ही हैं। जैसे ही कई राज्यों में स्कूल (School) खोलना शुरू किए जाते हैं कोरोना का प्रसार बढ़ जाता है। हालांकि अभी देश में कोरोना के मामले कम हो रहे हैं। ऐसे में स्कूल खोने जाने को लेकर एक बार फिर से चर्चा लोगों के बीच शुरू हो चुकी है। इसी कड़ी में दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS Director) निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया (Dr. Randeep Guleria) ने कहा है बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत होती है। इसलिए स्कूल खुलने चाहिए।

यह भी पढ़ें: पेगासस यूं लगाता है सेंध, कर सकता है मोबाइल में ये सब कुछ

हालांकि लगातार देश में तीसरी लहर आने की आशंका जताई जा रही है। साथ ही सात तीसरी लहर में बच्चों के चपेट में आने की बातें भी कही जा रही हैं। उधर, दिल्ली एम्स डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया (Dr. Randeep Guleria) ने कहा है कि अब स्कूलों को फिर से खोलने पर विचार करना चाहिए। इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में दिल्ली एम्स निदेशक (Delhi AIIMS Director) डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अब समय आ गया है कि स्कूलों को फिर से खोलने पर सहमत हो जाना चाहिए। एम्स निदेशक ने कहा कि स्कूल खुलने के कारण हमारे बच्चों के लिए सिर्फ सामान्य जीवन देना नहीं बल्कि एक बच्चे के समग्र विकास में स्कूली शिक्षा (School Education) का महत्व बहुत मायने रखता है।


उन्होंने आगे कहा कि ऑनलाइन क्लास (Online Class) से ज्यादा बच्चों का स्कूल जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि भारत में अन्य देशों की तुलना में कोरोना से संक्रमित बच्चों के मामले बहुत कम हैं। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना से बहुत कम बच्चे संक्रमित हो रहे हैं और जो बच्चे इस बीमारी का शिकार हो रहे हैं उनकी इम्युनिटी (Immunity) अच्छी होने की वजह से वो खुद को जल्द ठीक कर पाने में सक्षम हैं। सीरो सर्वे (Sero Survey) में इस बात का खुलासा हुआ है कि बच्चों के पास एंटीबॉडीज (Antibodies) वयस्क लोगों की अपेक्षा ज्यादा बेहतर है, इसलिए स्कूल खोले जाने चाहिए। इंटरनेट के जरिए पढ़ाई उतनी आसान नहीं है जितनी की स्कूलों (School) में होती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है