×

आतंकियों की बनाई #सुरंग में 150 फीट तक रेंगते हुए पहुंचे #सेना के जवान, मिले कई सबूत

सीमा पार से पाकिस्तानी रेंजर के मदद करने की भी जताई जा रही आशंका

आतंकियों की बनाई #सुरंग में 150 फीट तक रेंगते हुए पहुंचे #सेना के जवान, मिले कई सबूत

- Advertisement -

जम्मू। सांबा सेक्टर में सुरंग के रास्ते भारत में आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश को तो भारतीय सेना (Indian Army) ने नाकाम कर दिया अब सेना इस मामले में सबूत जुटाने में लगी हुई है। इसके तहत सुरक्षाबल 200 मीटर लंबी इस सुरंग में 150 फीट तक रेंगते हुए पहुंचे। इस मामले की जांच की जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि यह पूरी तरह से स्पष्ट है कि आतंकियों ने 19 नवंबर की रात बाहर निकलने से पहले सुरंग के अंदर ही छिपे हुए थे। 173 बटालियन के कमांडेंट राठौर ने बताया कि जैश के आतंकवादियों (Terrorists) द्वारा इस्तेमाल किए गए सुरंग में सुरक्षा बल के जवान करीब 150 फीट तक रेंगते हुए गए। इस दौरान जवानों को वहां से बिस्किट के पैकेट और अन्य खाद्य सामग्री के रैपर मिले। पैकेट पर लाहौर स्थित कंपनी ‘मास्टर कुजीन कपकेक’ नाम दर्ज है। इसके अलावा पैकेट पर निर्माण तिथि मई 2020 और एक्सपायरी डेट 17 नवंबर, 2020 अंकित है। घटनाक्रम से परिचित लोगों ने बताया कि निश्चित रूप से सीमा के दूसरी तरफ किसी पाकिस्तानी रेंजर ने इन आतंकियों की मदद की होगी।


यह भी पढ़ें: #LOC पर उड़ती दिखाई दी संदिग्ध चीज, मेंढर सेक्टर में #Alert जारी

गौर हो कि 19 नवंबर को नगरोटा (#Nagrota) में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई थी, जिसमें चार आतंकियों को सेना ने मार गिराया। ये आतंकी 26/11 जैसे हमले को अंजाम देने के लिए भारत में घुसे थे। मुठभेड़ के बाद सेना सतर्क हो गई है और सीमा पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक राकेश अस्थाना ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर के सांबा और राजौरी सेक्टर में पाकिस्तान से लगने वाली अंतरराष्ट्रीय सीमा पर गश्त बढ़ाने का आदेश दिया। सुरक्षाबलों द्वारा गश्त बढ़ाने के पीछे का उद्देश्य उन सुरंगों का पता लगाना है, जिनके जरिए जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के चार आतंकी भारत में दाखिल हुए थे। फिलहाल, भारतीय खुफिया एजेंसियां जैश के चारों आतंकियों के नाम और ट्रैक खंगालने में जुटी हुई हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है