Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

#Budget2021 : सरकार इन कंपनियों की हिस्सेदारी बेच कमाएगी पौने दो लाख करोड़

#Budget2021 : सरकार इन कंपनियों की हिस्सेदारी बेच कमाएगी पौने दो लाख करोड़

- Advertisement -

नई दिल्ली। केंद्र सरकार पर विपक्ष लगातार सरकारी कंपनियों (Government Companies) को बेचने का आरोप लगाती रहती है। अब नए वित्त वर्ष में भी सरकार ने सरकारी कंपनियों कि हिस्सेदारी (Share) बेच कर पैसे जुटाने का लक्ष्य रखा है। इस विनिवेश या डिसइनवेस्टमेंट कहते हैं। नए वित्त वर्ष (New Financial Year) में केंद्र सरकार ने पौने दो लाख करोड़ रुपये विनिवेश (Disinvestment) के जरिए जुटाने का टारगेट रखा है। हालांकि केंद्र सरकार का यह टारगेट (Target) पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 35 हजार करोड़ रुपए कम है। वित्त वर्ष 2020-21 में केंद्र सरकार ने विनिवेश के जरिए 2.1 लाख करोड़ रुपए जुटाने टारगेट रखा था।


यह भी पढ़ेंः#Budget2021: कांग्रेस ने नकारा केंद्र का बजट, बोली- ‘बेच खाएंगे सब कुछ, नही छोड़ेंगे अब कुछ’

केंद्रीय वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीतारमण ने बताया कि बीपीसीएल (BPCL), एअर इंडिया, कॉनकोर और एससीई (SCE) के डिसइनवेस्टमेंट पर जल्द ही बात पक्की हो सकती है। केंद्रीय वित्त मंत्री के मुताबिक एलाईसी का IPO भी अगले वित्त वर्ष में लाने की योजना है। IDBI में सरकार डिसइनवेस्टमेंट करने जा रही है। केंद्र सरकार कुछ CPSE में हिस्सेदारी बेचेगी। इसके लिए शेयर बाजार की तेजी को पहले देखा जाएगा। बीपीसीएल में सरकार अपनी हिस्सेदारी बेच कर करीब 60 हजार करोड़ रुपए कमाएगी। बीपीसीएल में सरकार अपनी 52.98 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी। ये देश की दूसरी सबसे बड़ी तेल कंपनी है।

एयर इंडिया सरकार के लिए सिरदर्द साबित हो रही है। पहले भी केंद्र सरकार एयर इंडिया की हिस्सेदारी बेचने की कोशिश कर चुकी है जो नाकामयाब ही रही। ऐसे में सरकार को उम्मीद है कि अगले वित्त वर्ष में एयर इंडिया को बेचा जा सकेगा। आपको बता दें कि एयर इंडिया पर 60,074 करोड़ रुपए का कर्ज है। सरकार एयर इंडिया की पूरी हिस्सेदारी बेचने के लिए भी तैयार है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि अगले वित्त वर्ष में सरकारी इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी का आईपीओ भी लॉन्च किया जाएगा। इसके लिए सरकार कानून में भी संशोधन करेगी। सरकार एलआईसी में अपनी 25 फीसदी हिस्सेदारी घटाएगी। इसके अलावा सरकार IDBI Bank में भी LIC की 51 फीसदी और सरकार की 47 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगी। IDBI बैंक के अलावा सार्वजनिक क्षेत्र के दो अन्य बैंकों और एक साधारण बीमा कंपनी का निजीकरण करने की योजना सरकार ने बनाई है।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है