Covid-19 Update

2,17,615
मामले (हिमाचल)
2,12,133
मरीज ठीक हुए
3,643
मौत
33,563,421
मामले (भारत)
230,985,679
मामले (दुनिया)

CM Jairam ने अटल टनल निरीक्षण कर कार्य में शीघ्रता लाने को कहा

CM Jairam ने अटल टनल निरीक्षण कर कार्य में शीघ्रता लाने को कहा

- Advertisement -

कुल्लू। सीएम जयराम ठाकुर ( CM Jairam Thakur) कुल्लू व लाहुल- स्पीति के दौरे पर सिस्सु हेलीपैड ( Sissu Helipad) पहुंचे। इस दौरान सीएम ने सिस्सु हेलिपैड का निरीक्षण किया और स्थानीय लोगों के साथ मुलाकात की। सीएम अटल टनल( Atal Tunnel) के उद्घाटन को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी( PM Narendra Modi) के प्रस्तावित लाहुल दौरे के चलते सिस्सु में प्रशासनिक अधिकारियों को उचित दिशा- निर्देश दिए। उन्होंने यहां प्रस्तावित टूरिस्ट पार्क का भी जायजा लिया।

सीएम जयराम ने कहा कि अटल रोहतांग टनल खुलने से लाहुल स्पीति के किसानों,बागवानों की आर्थिकी सदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि रोहतांग अब 12 महीने खुला रहेगा और इससे लाहुल स्पीति की जनता को बड़ी राहत मिलेगी। वह एक ऐतिहासिक पल होगा जब पीएम नरेंद्र मोदी अटल टनल का उद्घाटन करेंगे। मनाली-लेह रेल लाइन भी प्रस्तावित है।


सीएम जय राम ठाकुर ने अटल टनल, रोहतांग और सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के अधिकारियों के साथ टन्नल के निर्माण कार्य की प्रगति की समीक्षा की। अटल टन्नल रोहतांग मुख्यालय (परियोजना) में सीमा सड़क संगठन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता करते हुए बीआरओ अधिकारियों को सुरंग को शीघ्र अंतिम रूप प्रदान करने के निर्देश दिए ताकि सितम्बर के अंत तक पीएम नरेन्द्र मोदी द्वारा लोकार्पण के लिए इसे तैयार किया जा सके। उन्होंने कहा कि अटल टन्नल से लेह और लद्दाख क्षेत्रों में वर्ष भर संपर्क की सुविधा मिलेगी, जो छह महीनों के लिए भारी बर्फबारी के कारण देश के अन्य भागों से कटे रहते थे।

रोजगार और स्वरोजगार के नये अवसर सृजित होंगे

जय राम ठाकुर ने कहा कि पीएम इस बड़ी परियोजना के शीघ्र पूर्ण होने में विशेष रूचि दिखा रहे हैं जो सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। प्रदेश के लाहौल-स्पीति जिला में इससे पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा और इस क्षेत्र में रोजगार और स्वरोजगार के नये अवसर सृजित होंगे। यह परियोजना 3500 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होगी। उन्होंने कहा कि पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला को काटकर निर्मित टन्नल से मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गई है। लाहौल और स्पीति घाटी के लोगों के लिए यह सुरंग वरदान साबित होगी क्योंकि भारी बर्फबारी के कारण इन क्षेत्रों का संपर्क देश के अन्य भागों से कट जाता था। उन्होंने कहा कि लद्दाख में स्थित सैनिकों को सुरंग से सभी मौसमों में संपर्क की सुविधा मिलेगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है