Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

चीन की सरकारी मीडिया ने लिखा: G-7 में शामिल हुआ India तो खराब होंगे China से उसके रिश्ते

चीन की सरकारी मीडिया ने लिखा: G-7 में शामिल हुआ India तो खराब होंगे China से उसके रिश्ते

- Advertisement -

नई दिल्ली। सीमा पर पनपे विवाद के बीच चीन (China) और भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अफसरों के बैठक से पहले चीनी मीडिया ने भारत (India) पर जमकर निशाना साधा है। वहीं चीन के सरकार के प्रोपगेंडा मैगजीन ग्लोबल टाइम्स (Global Times) ने भारत को जी 7 सम्मेलन (G7 conference)में शामिल होने पर दोनों देशों के बीच रिश्ते खराब होने की बात कही है। ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है, ‘चीन को ‘काल्पनिक दुश्मन’ मानने वाले छोटे से समूह (जी-7) में भारत जल्दबाज़ी में शामिल हुआ तो चीन के साथ उसके रिश्ते खराब होंगे।’

यह भी पढ़ें: एक ही IMEI नंबर पर चल रहे थे 13,000 से ज्यादा फोन; China की कंपनी पर दर्ज हुआ मुकदमा

भारत को रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम है- ग्लोबल टाइम्स

बतौर लेख, ‘जी-7 के विस्तार का हिस्सा बनना भारत के हित में नहीं है, दोनों देशों के मौजूदा द्विपक्षीय रिश्ते पहले ही निचले स्तर पर जा रहे हैं।’ बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने पीएम मोदी को अमेरिका में होने वाले जी7 सम्मलेन में शामिल होनी का न्योता दिया है। वहीं ग्लोबल टाइम्स ने कटाक्ष करते हुए लिखा कि भारत ने धीरे-धीरे चीन के प्रति रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम पैदा किया है। भारत के कुछ लोगों को लगता है कि चीन सीमा मुद्दे पर रियायत दे सकता है। उन्हें विश्वास है कि चीन, भारत के टूटने से डरता है और भारत को इसका लाभ हो सकता है।


यह भी पढ़ें: हथिनी मौत विवाद: साइबर वॉरियर्स ने की मेनका गांधी की NGO की वेबसाइट Hack, लिखी ये बातें

भारत को अमेरिका या किसी और के उकसावे में नहीं आना चाहिए

ग्लोबल टाइम्स ने आगे लिखा कि चीन के प्रति विरोध की मानसिकता भारत में बढ़ रही है और इसने भारतीय नीति निर्माताओं पर दबाव डाला है। चीनी और भारतीय नेताओं ने 2018 में एक अनौपचारिक शिखर बैठक की और एक महत्वपूर्ण सहमति पर पहुंच गए थे। पिछले दो वर्षों में दोनों देशों के उच्च-रैंक के अधिकारियों के बीच लगातार संपर्क बना रहा और भारतीय नेताओं ने रणनीतिक शांति दिखाई। उम्मीद है कि इस तरह की शांति विशेषकर सीमा मुद्दे पर अग्रणी भूमिका निभाएगी। चीनी मीडिया ने लद्दाख में जारी सीमा विवाद के बीच भारत को चेतावनी देते हुए कहा कि उसे अमेरिका या किसी और के उकसावे में नहीं आना चाहिए।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है