Covid-19 Update

2,18,314
मामले (हिमाचल)
2,12,899
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,678,119
मामले (भारत)
232,488,605
मामले (दुनिया)

सरकार ने कब्जे में ली Jayalalithaa की प्रॉपर्टी: मिला 4.3 किलो सोना, 601 किलो चांदी; 8376 किताबें व 38 एसी

सरकार ने कब्जे में ली Jayalalithaa की प्रॉपर्टी: मिला 4.3 किलो सोना, 601 किलो चांदी; 8376 किताबें व 38 एसी

- Advertisement -

चेन्नई। तमिलनाडु सरकार (Government of Tamil Nadu) ने दिवंगत सीएम जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) की संपत्ति अधिग्रहित की जाने वाली चल-अचल संपत्ति कब्जे में ले ली है। सरकार की तरफ से जयललिता के चेन्नई में पोएस गार्डन स्थित मकान ‘वेद निलयम’ में मौजूद सभी चल संपत्तियों की सूची जारी की है। इस सूची में 4.37 किलोग्राम सोना, 601.42 किलोग्राम चांदी, 8376 किताबें, 11 टीवी सेट, 38 एयर कंडीशनर्स, 10 रेफ्रिजरेटर्स और 556 फर्नीचर शामिल हैं। तमिलनाडु सरकार जयललिता के तीन मंजिला घर ‘वेद निलयम’ (Veda Nilayam) को स्मारक बनाने जा रही है। इस घर को मूल रूप से जयललिता की दिवंगत मां ने खरीदा था। जयललिता के पोएस गार्ड वाले घर से ली गई चीजों को इस मेमोरियल में प्रदर्शनी के तौर पर रखा जाएगा।

जयललिता के कानूनी उत्तराधिकारियों ने किया है सरकारी अधिग्रहण का विरोध

सोने-चांदी के अलावा जयललिता के घर से 11 टेलीविज़न, 10 रेफ्रिजरेटर, 29 टेलीफोन और मोबाइल फोन, 394 स्मृति चिन्ह, 65 सूटकेस और 108 कॉस्मेटिक आइटम और छह घड़ियां भी कब्जे में ली गई हैं। राज्य सरकार द्वारा मई में जारी अध्यादेश के मुताबिक, संपत्ति की सूची में जयललिता के बंगले के अंदर स्थित दो आम के, एक कटहल का और पांच नारियल व पांच केले के पेड़ भी शामिल हैं। कुल चल संपत्तियों की संख्या 32,721 है। राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने मई में अध्यादेश जारी किया था जिससे जयललिता के आवास पर अस्थायी कब्जा प्राप्त कर उसे स्मारक में बदला जा सके। अध्यादेश में कहा गया कि वेद निलयम की इमारत में फर्नीचर, किताबें, गहने जैसी चल संपत्तियों को लेकर तीन साल से भी ज्यादा समय से चर्चा चल रही है।

यह भी पढ़ें: प्रियंका गांधी ने 23 साल बाद खाली किया लोधी एस्‍टेट स्थित सरकारी बंगला, अब Flat में हुईं शिफ्ट

बता दें कि तमिलनाडु सरकार के इस अधिग्रहण का जयललिता के कानूनी उत्तराधिकारियों- उनकी भतीजी दीपा और भतीजे दीपक ने विरोध किया है। बतौर रिपोर्ट्स, राज्य सरकार ने वेदा निलयम को प्राप्त करने के लिए 25 जुलाई को सिविल कोर्ट में 67.9 करोड़ रुपए जमा किए थे। इस राशि में से 36.9 करोड़ रुपए का भुगतान IT और वेल्थ टैक्स बकाया राशि के लिए किया जाएगा और शेष राशि जयललिता के कानूनी उत्तराधिकारियों को जा सकती है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है